स्मार्ट सिटी इंदौर का कलंक बन गया है खाद्य तथा औषधि विभाग

इंदौर स्मार्ट सिटी बन रहा है लेकिन स्मार्ट सिटी के लिए इंदौर का खाद्य तथा औषधि विभाग लगातार कलंक बनता जा रहा है जागरूक व्यापारियों का आरोप है कि यह विभाग पूरी तरह से रिश्वतखोरी का अड्डा बन गया है

I love indore

अर्जुन राठौर

इंदौर स्मार्ट सिटी बन रहा है लेकिन स्मार्ट सिटी के लिए इंदौर का खाद्य तथा औषधि विभाग लगातार कलंक बनता जा रहा है जागरूक व्यापारियों का आरोप है कि यह विभाग पूरी तरह से रिश्वतखोरी का अड्डा बन गया है और यहां के इंस्पेक्टर तथा अधिकारी दिनभर खाद्य संस्थानों से वसूली करने में लगे रहते हैं इसका सबसे बड़ा उदाहरण यह है कि विभाग द्वारा वसूली तथा सांठगांठ के कारण पूरे शहर को मिलावटखोरों के हवाले कर दिया गया है।

खाद्य वस्तुओं में लगातार मिलावट बढ़ती चली जा रही है लेकिन इस विभाग की कोई सक्रियता नजर नहीं आती हालात इतने बदतर हैं कि सराफा जैसी जगह में सड़कों के किनारे खुले बर्तनों में मिठाइयां बेची जाती है और यहीं पर दिनभर हजारों वाहन गुजरते हैं इन वाहनों से निकलने वाली धूल लगातार खाद्य पदार्थों में गिरती रहती है और इन्हें खाने के बाद लोग बीमार हो जाते हैं लेकिन खाद्य और औषधि विभाग के अधिकारी सिर्फ वसूली करते हैं और जनता के प्रति अपनी जवाबदारी से मुंह मोड़ लेते हैं।

Read More : आप के 10 उम्मीद्वार मैदान में, पार्टी ने जारी की पहली लिस्ट

सरकार द्वारा मिलने वाला वेतन तो उनका अधिकार है लेकिन रिश्वतखोरी के माध्यम से लाखों रुपए वसूले जाते हैं
जानकार बताते हैं कि घी तेल से लेकर तमाम खाद्य पदार्थों में बड़े पैमाने पर मिलावट की जा रही है यहां तक की नमकीन भी कंट्रोल पर बिकने वाले चावल से बनाया जा रहा है लेकिन इस विभाग के कर्मचारी मिलावटखोरों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करते।

Read More : इंदौर जिले में पिछले वर्ष से अब तक साढ़े 4 इंच से अधिक वर्षा की गई दर्ज

हालत यह है कि इंदौर शहर में ही एक तरफ ₹160 किलो नमकीन बिकता है तो दूसरी तरफ ₹300 किलो तक आखिर भावों में इतना अंतर कैसे आ जाता है? सस्ता बेचने वाले कौन से तेल का उपयोग कर रहे हैं और बेसन की जगह क्या मिला रहे हैं इस बात की भी जांच खाद्य तथा औषधि विभाग नहीं करता इस तरह की तमाम दुकानों से इनकी वसूली चलती रहती है और इस तरह से स्मार्ट सिटी इंदौर के लोगों को लगातार बीमारियों की ओर धकेला जा रहा है।