शिवजी का ये मंदिर दिन में दो बार हो जाता है गायब…

0
119

नई दिल्ली :वैसे तो भारत में भगवान शिव के हजारों मंदिर हैं, लेकिन गुजरात में वडोदरा से 85 किमी दूर स्थित जंबूसर तहसील के कावी-कंबोई गांव का यह मंदिर अलग ही विशेषता रखता है।

Image result for stambheshwar mahadev temple history in hindi
via

आज हम बात कर रहे हैं गुजरात में स्थित एक अनोखे मंदिर की। यह मंदिर अरब सागर में खंभात की खाड़ी के किनारे स्थित है | समुद्र के बीच में स्थित होने की वजह से इसकी खुबसूरती देखने लायक है। स्तंभेश्वर नाम का यह मंदिर दिन में दो बार सुबह और शाम को पल भर के लिए ओझल हो जाता है और कुछ देर बाद उसी जगह पर वापस भी आ जाता है।

Image result for stambheshwar mahadev temple history in hindi
via

इस तीर्थ का उल्लेख ‘श्री महाशिवपुराण’ में रुद्र संहिता के भाग दो में भी मिलता है । इस मंदिर की खोज लगभग 150 साल पहले हुई। मंदिर में स्थित शिवलिंग का आकार 4 फुट ऊंचा और दो फुट के व्यास वाला है। इस प्राचीन मंदिर के पीछे अरब सागर का सुंदर नजारा दिखाई पड़ता है।

कैसे गायब होता स्तंभेश्वर महादेव का मंदिर
यह मंदिर जिस समुद्र के किनारे पर बसा है वहां पर दो बार ज्वार-भाटा आता है ,ज्वार के समय समुद्र का पानी दो बार मंदिर में आता है  और शिवशंभू का अभिषेक कर चला जाता है  .लोकमान्यता है  की इस मंदिर में स्वयं शिव विराजते है | यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खासतौर से पर्चे बांटे जाते हैं, जिसमें ज्वार-भाटा आने का समय लिखा होता है। ऐसा इसलिए किया जाता है, ताकि यहां आने वाले श्रद्धालुओं को परेशानियों का सामना न करना पड़े।

Related image
via

मान्यता पौराणिक कथाओ के अनुसार :-

स्कंदपुराण के अनुसार राक्षक ताड़कासुर ने अपनी कठोर तपस्या से शिव को प्रसन्न कर लिया था। जब शिव उसके सामने प्रकट हुए तो उसने वरदान मांगा कि उसे सिर्फ शिव जी का पुत्र ही मार सकेगा और वह भी छह दिन की आयु का। शिव ने उसे यह वरदान दे दिया था। वरदान मिलते ही ताड़कासुर ने हाहाकार मचाना शुरू कर दिया। देवताओं और ऋषि-मुनियों को आतंकित कर दिया। अंतत: देवता महादेव की शरण में पहुंचे। शिव-शक्ति से श्वेत पर्वत के कुंड में उत्पन्न हुए शिव पुत्र कार्तिकेय के 6 मस्तिष्क, चार आंख, बारह हाथ थे। कार्तिकेय ने ही मात्र 6 दिन की आयु में ताड़कासुर का वध किया।

Image result for कार्तिकेय की तारकासुर
via

जब कार्तिकेय को पता चला कि ताड़कासुर भगवान शंकर का भक्त था, तो वे काफी व्यथित हुए। फिर भगवान विष्णु ने कार्तिकेय से कहा कि वे वधस्थल पर शिवालय बनवा दें। इससे उनका मन शांत होगा। भगवान कार्तिकेय ने ऐसा ही किया। फिर सभी देवताओं ने मिलकर महिसागर संगम तीर्थ पर विश्वनंदक स्तंभ की स्थापना की, जिसे आज स्तंभेश्वर तीर्थ के नाम से जाना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here