देश की सबसे पुरानी कांग्रेस पार्टी में इस वक्त अध्यक्ष पद को लेकर घमाघमी का माहौल बना हुआ हैं। 21 सितंबर को नामांकन आवेदन के लिए प्रक्रिया चालु हो गई जो आज यानि शुक्रवार को आखिरी तारीख हैं। इसी बीच इस चुनाव में अब वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे की एंट्री हो गई है। उन्होंने गुरुवार रात को सोनिया गांधी से भी मुलाकात की है। मल्लिकार्जुन खड़गे कर्नाटक से आते हैं और दलित नेता हैं, इसलिए उन्हें कांग्रेस आलाकमान का पसंदीदा चेहरा माना जा रहा है।

ये वरिष्ठ नेता करेंगे पर्चा दाखिल

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री, राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह और केरल से सांसद शशि थरूर आज अपना नामांकन दाखिल करेंगे। इसके अलावा मुकुल वासनिक, कुमारी शैलजा भी नामांकन दाखिल कर सकती हैं। नामांकन वापसी की आखिरी तारीख 8 अक्टूबर है। इस बीच G-23 ग्रुप के अलग से प्रत्याशी उतरने की चर्चाएं भी शुरू हो गई हैं। मनीष तिवारी पहले भी चुनाव लड़ने का संकेत दे चुके हैं। राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने खुद को इस रेस से बाहर कर लिया है।

खड़गे कर्नाटक में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके

मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोनिया से मुलाकात की है. मल्लिकार्जुन के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने को लेकर आखिरी फैसला सोनिया गांधी लेंगी। खड़गे 8 बार के विधायक, दो बार लोकसभा सांसद एक बार राज्यसभा सांसद रहे हैं। वे सिर्फ 2019 में लोकसभा चुनाव हारे हैं. खड़गे दलित नेता हैं। वे कर्नाटक के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री भी रह चुके हैं।

Also Read : MP Weather & IMD Update : प्रदेश से गायब हुई बरसात, इन राज्यों में बिछी आकाश में बादलों की बिसात, जानिए कहाँ है मौसम विभाग का अलर्ट

अशोक गहलोत रेस से बाहर

इससे पहले गुरुवार को राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद खुद को चुनावी रेस से बाहर कर लिया. गहलोत ने कहा कि राजस्थान में जो सियासी घटनाक्रम हुआ, उसे देखते हुए वे काफी दुखी हैं, और इस माहौल में चुनाव नहीं लड़ेंगे। गहलोत के सीएम पद पर बने रहने को लेकर भी सस्पेंस गहरा गया है। पार्टी की तरफ से बताया गया है कि एक या दो दिन में इस पर फैसला हो जाएगा।

दिग्विजय सिंह भी मैदान में

राजस्थान में पिछले दिनों हुए सियासी ड्रामे के बीच दिग्विजय सिंह ने भी इस रेस में उतरने का ऐलान किया था। उन्होंने साफ किया है कि वे शुक्रवार को अपना नामांकन दाखिल करेंगे. हालांकि, ये स्पष्ट नहीं हो सका कि दिग्विजय को पार्टी हाइकमान ने समर्थन दिया है या नहीं। दिग्विजय सिंह ने कहा है कि उन्होंने स्वयं चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। सूत्रों का कहना है कि पार्टी हाइकमान दलित उम्मीदवार के नाम पर विचार कर रहा है, जिसमें मल्लिकार्जुन खड़गे का नाम सबसे आगे चल रहा है। इसके अलावा, मीरा कुमार, मुकुल वासनिक (G-23) और कुमारी शैलजा का नाम भी चर्चा में है।

थरूर के अलावा G-23 से कोई और भी?

देर रात G-23 के कुछ नेताओं ने आनंद शर्मा के घर पहुंचकर उनसे मुलाकात की. इनमें भूपेंद्र सिंह हुड्डा, मनीष तिवारी, पृथ्वीराज चव्हाण का नाम शामिल है। इस बैठक के बाद इसके बाद आनंद शर्मा अशोक गहलोत से मिलने दिल्ली के जोधपुर हाउस पहुंचे. माना जा रहा है कि शशि थरूर (G-23) से इतर इन नेताओं में से भी कोई उम्मीदवार हो सकता है। इन G-23 के नेताओं के बीच वेट एंड वॉच की स्थिति चल रही है।

थरूर-दिग्विजय का नामांकन करना फाइनल!

इधर, शशि थरूर (G-23) शुक्रवार को अपना नामांकन दाखिल करेंगे। उन्होंने गुरुवार को दिग्विजय सिंह के साथ बैठक की और दोनों नेताओं ने कहा कि उनका मुकाबला प्रतिद्वंद्वियों का नहीं, बल्कि दोस्तों के बीच होगा और अंतत। कांग्रेस की जीत होगी. दिन में दिग्विजय सिंह ने नामांकन पत्र के कुल 10 सेट कलेक्ट किए। उन्होंने कहा कि वे शुक्रवार को अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। झारखंड में पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने भी पार्टी के शीर्ष पद के लिए नामांकन पत्र का एक सेट कलेक्ट किया। बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए 17 अक्टूबर को मतदान होगा और 19 अक्टूबर को परिणाम घोषित किया जाएगा।