देश भर आज़ादी के इस अमृतकाल में गणतंत्र दिवस की तैयारियां काफी जोरों से चल रही है। एक तरफ जहाँ दिल्ली में कड़ाके की ठंड में हर रोज जवान परेड का रिहर्सल कर रहे हैं तो वहीँ दूसरी तरफ वायु सेना के कमांडों भी अपनी-अपनी रिहर्सल कर रहे है। लेकिन इस बार का गणतंत्र दिवस की परेड में बेहद ख़ास होने वाली है क्योंकि आज़ादी के 75 वर्षों में ऐसा पहली बार होगा जब परेड की की पहली पंक्ति में VIP की जगह रिक्शा चालकों, सब्जी बेचने वालों तथा मजदुर वर्ग को जगह दी गयी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस बार रिपब्लिक डे की परेड में उन श्रमिकों को जिन्होंने सेंट्रल विस्टा बनाने में मदद की उनके परिवार, कर्तव्य पथ के रख-रखाव करने वाले कर्मचारी, रिक्शा चालक, छोटे किराने वाले और सब्जी बेचने वाले मुख्य मंच के सामने वाली सीट पर जगह दी जाएगी। सरकार ने इन्हें श्रमजीवी का नाम दिया है। इस ख़ास पहल के पीछे समारोह का मकसद सभी गणतंत्र दिवस कार्यक्रमों में आम लोगों की भागीदारी है। गणतंत्र दिवस समारोह ‘जनभागीदारी’ की भावना से आयोजित किया जाएगा।

Also Read : IPL के बाद इस लीग में खेलते नजर आएंगे MS धोनी! दिग्गज खिलाड़ी ने दिया बड़ा हिंट

सेंट्रल विस्टा के उद्घाटन के बाद पहला गणतंत्र दिवस

बता दें कि इस साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस समारोह के मौके पर मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी (Abdel Fattah Al Sisi) मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होंगे। इसके अलावा उनके देश के 120 सदस्यीय मार्चिंग दल भी परेड में भाग लेंगे। गौरतलब है कि सितंबर 2022 में पुनर्निर्मित सेंट्रल विस्टा एवेन्यू के उद्घाटन के दौरान जिस स्थल को पहले राजपथ कहा जाता था। जिसका नाम बदलकर कर्तव्य पथ कर दिया गया था। नाम परिवर्तन के बाद ऐसा पहली बार होगा जब यहाँ परेड की जाएगी।