श्रीराम मंदिर पंचकुइया आश्रम के पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर श्री श्री 1008 श्री लक्ष्मणदास महाराज का देवलोकगमन कल यानि शनिवार को देर रात में हो गया। जानकारी के मुताबिक उनकी देर रात को हृदयगति रुक गई, जिसके चलते उनकी मृत्यु हो गई। रविवार यानि आज दोपहर 12 बजे से उनकी अंतिम यात्रा पंचकुइया मंदिर से निकलेगी। जो कई मार्गों से निकलकर फिर मंदिर की और पहुंचेगी। मंदिर परिसर में ही महाराज का अंतिम संस्कार वेद मंत्रों के बीच किया जाएगा।

उनके देवलोकगमन से शिष्यों के साथ-साथ कई भक्तों में शोक व्याप्त है। उनके निधन की सुचना देश के विभिन्न हिस्सों में रहने वालों को भी दी गई है। खबर मिलते ही कई भक्त देर रात में ही मंदिर पर पहुँच गए। जानकारी के लिए बता दें लक्ष्मणदास जी महाराज ने हाल ही में इंदौर में हुई सिहोरवाले पंडित प्रदीप मिश्रा से भी मुलाकात की थी। इसके अलावा लक्ष्मणदास महाराज धार्मिक आयोजनों के साथ ही राजनीतिक मंच पर भी सदा सक्रिय रहते थे।

Also Read – IMD Alert : इन 10 जिलों में अगले तीन दिनों तक होगी भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी

वहीं वे पंचकुइया स्थित 300 साल पुराने मंदिर की व्यवस्था संभाल रहे थे। यहां भगवान राम की बाल स्वरूप में श्यामवर्ण की मूर्ति है। 15 एकड़ में फैला आश्रम और मंदिर में कई धार्मिक और सेवा गतिविधियों का संचालन होता है। यहां गोशाला में 250 गायें हैं। भगवान राम के साथ ही शिव मंदिर भी है। उनके स्नेह और तर्कपूर्ण व्यवहार ने उन्हें लोकप्रिय बनाया था।