उत्तर भारत कड़ाके की ठंड से कंपकंपा रहा है तो देश के तीन पहाड़ी हिस्से बर्फबारी का सामना कर रहे हैं. जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी हो रही है. मौसम विभाग के अनुसार, अभी तीन दिन और ऐसा ही मौसम रहने वाला है.

 

वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के सक्रिय होते ही पहाड़ी इलाकों में जमकर बर्फबारी होने लगी है. हिमाचल प्रदेश के कुल्लू, नरकंडा, लाहौल स्फिति में जमकर बर्फबारी हो रही है. हालांकि, यह बर्फबारी हिमाचल के लोगों के लिए राहत बनकर आई है. दरअसल, लंबे वक़्त से हिमाचल के लोग इस बर्फबारी का बड़ी बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे. हिमाचल प्रदेश ने पिछले महीने से अब तक सूखे का लंबा दौर देखा है.

Also Read – जानिए क्यों इस बार 15 जनवरी को मनाई जा रही हैं मकर संक्रांति? जानें शुभ मुहूर्त, इन चीजों का करें दान

वहीं, इस भारी बर्फबारी से समूची घाटी शीतलहर की लपेट में आ गई है. फिलहाल मनाली शहर में यातायात-साधन की आवाजाही सुचारू है, लेकिन बर्फबारी के चलते रोहतांग दर्रा पहले ही वाहनों के लिए अवरुद्ध हो चुका है. बर्फबारी के चलते अटल टनल से भी वाहनों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया गया हैं.

पर्यटक वाहनों को सोलंगनाला से आगे जाने नहीं दिया जा रहा था. लेकिन अब मनाली में बर्फ़बारी के बाद पर्यटक वाहनों को नेहरु कुंद से आगे नहीं जाने दिया जा रहा है. हिमाचल प्रदेश के पहाड़ बर्फ की सफेद चादर से गुलजार होने शुरू हो गए हैं. साथ ही प्रदेश ठंड की चपेट में आ गया है.

मंडी जिले में इस मौसम की तीसरी बर्फबारी हुई है. जिले में जंहा इस वर्ष का तीसरा हिमपात हुआ है वहीं, मंडी के बाकी क्षेत्र पराशर, कमरुनाग और शिकारी देवी में भी बर्फबारी का दौर जारी है. जिसकी वजह से अब जिले के निचले इलाके में तापमान मे कमी आई है. प्रशासन ने ऊपरी क्षेत्रों में जाने पर प्रतिबंध निषेध कर दिया हैं. भारी बर्फबारी के कारण श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग अवरुद्ध हो गया है. सड़कों को साफ करने का काम जारी है लेकिन निरन्तर हो रही बर्फबारी और बारिश इस काम को कठिन बना रही है.

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार, वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के कारण हो रही बर्फबारी से उत्तर भारत के राज्यों में मकर संक्रांति से ठंड बढ़ जाएगी. ठिठुरन के साथ गलन भी और बढ़ेगी. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पहले की तरह ही शीतलहर को लेकर रेड अलर्ट जारी हो सकता है.