पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने की मीडिया से चर्चा, लगाए शिवराज सरकार पर ये गंभीर आरोप

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मिडिया से चर्चा करते समय शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा -शिवराज सरकार में आज भ्रष्टाचार की बात करें,कुपोषण की बात करें ,कार्यवाही की बात करें , हर बात में इनकी सच्चाई सामने आ रही है और शिवराज सरकार में आज अत्याचार पर छूट है ,भ्रष्टाचार पर छूट है।यह जान चुके हैं कि इनके आखरी 12-13 माह बचे हैं ,जितना लूट सके लूट लो।

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने मिडिया से चर्चा करते समय शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा -शिवराज सरकार में आज भ्रष्टाचार की बात करें,कुपोषण की बात करें ,कार्यवाही की बात करें , हर बात में इनकी सच्चाई सामने आ रही है और शिवराज सरकार में आज अत्याचार पर छूट है ,भ्रष्टाचार पर छूट है।यह जान चुके हैं कि इनके आखरी 12-13 माह बचे हैं ,जितना लूट सके लूट लो। आज सरकार का फोकस आदिवासी समाज को बांटने का है।जो आदिवासी समाज हमेशा से ही एक रहा है , वह एक नहीं रहे ,यह आज भाजपा का लक्ष्य है। वह एक तरफ इवेंट करती है और दूसरी तरफ आदिवासी समाज को बांटने का काम भी कर रही है।आदिवासी समाज की जो उपजातियां हैं ,उनके कई संगठन है , उनको यह पैसा , प्रलोभन देकर समाज को बांटने का प्रयास कर रहे हैं। भाजपा का शुरू से प्रयास लोगों को बांटने का रहता है , कभी धर्म के नाम पर , कभी जाति के नाम पर।

Also Read-SP के बाद अब झाबुआ कलेक्टर पर भी निकला CM शिवराज का गुस्सा, किया निलंबित, नई collector बनी रजनी सिंह

लाने थे गिर के शेर, ले आए नामीबिया से चीते

आज यह चीता छोड़ रहे हैं लेकिन कुपोषण पर बात नहीं कर रहे हैं ,बेरोजगारी पर बात नहीं कर रहे हैं , यह आज प्रदेश के हालत है और यह जनता को गुमराह करने का काम कर रहे हैं। जो वास्तविक मुद्दे हैं ,जो आज प्रदेश और हर व्यक्ति के भविष्य से जुड़े हुए मुद्दे हैं , उससे आज ध्यान बांटने का काम हो रहा है। हमारा श्योपुर जिला देश का सबसे ज्यादा कुपोषित जिला है ,इसके गवाह तो खुद सरकारी आंकड़े हैं। चीता तो यह एक माह बाद भी छोड़ सकते थे ,पहले यह कुपोषण दूर करने के लिए कैंप लगाते , कुपोषण दूर करने के उपाय करते लेकिन इन्हें तो चीता इवेंट करना था। सरकार को कुपोषण को दूर करने को लेकर कार्य योजना बनानी चाहिये। कायदे से तो वहाँ गिर के शेर आने चाहिये थे।जब मेरी सरकार थी ,जब मैं मुख्यमंत्री था ,तब मैंने इसको लेकर खूब प्रयास किए।मैंने इसको लेकर सरकार से बात भी की थी कि यहां पूरी तैयारी है ,आप गिर के शेर भेज दीजिए लेकिन उन्होंने शेर भेजने से मना कर दिया।

Also Read-Government Jobs : सरकारी बैंकों में निकलने वाली है बम्पर भर्तियां, कल होगी वित्त मंत्रालय की उच्च स्तरीय बैठक

प्रदेश में बुलंद है अपराधियों के हौसले

मध्यप्रदेश में मासूम बच्चियो से दुष्कर्म की लगातार घटनाएं घट रही है।आज अपराधियों के हौसले बुलंद है क्योंकि उन्हें पता है कि प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। भाजपा सिर्फ आदिवासियों के नाम पर इवेंट करती है ,सम्मेलन करती हैं,अधिकारियों को टारगेट देकर भीड़ बुलाई जाती है। प्रदेश कांग्रेस प्रभारी जेपी अग्रवाल द्वारा कही गई बात के सवाल पर कहा कि – जब वे प्रदेश में प्रभारी बनने के बाद पहली बार आए तो मैंने ही उनसे आग्रह किया था कि उनको जिलों के दौरे करना चाहिए।उनका कहने का आशय कार्यकर्ताओं में उत्साह भरना है , मिशन 2023 की तैयारी करना है।जो कार्यकर्ता घर बैठे हैं ,उनको बाहर निकालना है।हम आज जो भी निर्णय ले रहे हैं ,वह कांग्रेस के हित में ले रहे है।

दबाए जा रहे हैं कांग्रेसी नेता

कांग्रेस नेता अरुणोदय चौबे को दबाने के प्रयास कई महीने से चल रहे थे ,लगातार उनके बयान भी सामने आ रहे थे।इनके ऊपर किस प्रकार के प्रकरण लाद दिए गए थे। कांग्रेस में आज जो भी हैं वह अपनी निष्ठा से हैं ,बगैर किसी दबाव के हैं। कांग्रेस की कल की बैठक में पारित प्रस्ताव पर भाजपा द्वारा उठाए सवाल पर जवाब देते हुए कहा कि भाजपा बताए कि अमित शाह से लेकर नड्डा जी की नियुक्ति कैसे हुई ? इसके साथ ही कई और आरोप भी कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर लगाए।