मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लव-जिहाद को लेकर बड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने इंदौर में कहा कि, एमपी की धरती पर लव-जिहाद के खेल को लेकर कड़े शब्द कहे। इतना ही नही जो कोई शादी कर ले तो उन्हें बक्शा नही जाएंगा। अगर जरूरत पड़ी तो लव-जिहाद के खिलाफ कड़ा कानून बनाया जाएगा। साथ ही सीएम ने दो टूक कहा कि जमीन हथियाने के लिए आदिवासी महिला से कोई शादी नहीं कर सकता। उन्होंने मंच से पेसा एक्ट के बारे में भी जानकारी दी। वे इस एक्ट के मास्टर ट्रेनर हैं।

एक देश में दो विधान क्यों

गौरतलब है कि, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लव जिहाद और समान नागरिक संहिता को लेकर काफी मुखर हैं। हाल ही में उन्होंने बड़वानी के सेंधवा में कहा था कि मैं इस बात का पक्षधर हूं कि भारत में अब समय आ गया है कि एक समान नागरिक संहिता लागू होनी चाहिए। एक से ज्यादा शादी क्यों करें? कोई एक देश में दो विधान क्यों चले? नियम एक ही होना चाहिए। समान नागरिक संहिता में एक पत्नी रखने का अधिकार है तो एक ही पत्नी सबके लिए होनी चाहिए।

Also Read : भारत जोड़ो यात्रा MP के बाद राजस्थान में हुई एंट्री, राहुल गांधी की किया जोरदार स्वागत

प्रदेश में कमेटी बना रहा हूं

उन्होंने ऐलान किया, “मध्य प्रदेश में भी मैं कमेटी बना रहा हूं। समान नागरिक संहिता में एक पत्नी रखने का अधिकार है तो एक ही पत्नी सबके लिए होनी चाहिए”।

गुजरात और उत्तराखंड में हो चुकी है घोषणा

बता दें कि, इससे पहले गुजरात में भी अक्टूबर में समान नागरिक संहिता लागू करने के लिए कमेटी के गठन का ऐलान किया गया था। इसे गुजरात चुनाव से जोड़कर भी देखा गया था। वहीं उत्तराखंड में भी चुनाव से समान नागरिक संहिता करने की घोषणा की गई थी। सरकार बनने के बाद इसे लागू किया गया था।