गांव की सरकार पर भाजपा का कब्जा, रीना बनीं इंदौर जिला पंचायत अध्यक्ष

चारों जनपदों के बाद अब भाजपा  ने जिला पंचायत  पर भी अपना झंडा लहरा  दिया है, आज हुए चुनाव के बाद भाजपा प्रत्याशी रीना मालवीय  विजयी घोषित हुई है।

चारों जनपदों के बाद अब भाजपा  ने जिला पंचायत  पर भी अपना झंडा लहरा  दिया है, आज हुए चुनाव के बाद भाजपा प्रत्याशी रीना मालवीय  विजयी घोषित हुई है। रीना को 12 वोट प्राप्त हुए तो कांग्रेस की ममता चौबिसिया को मात्र 5 वोट मिले।जिला पंचायत कार्यालय पर जब तक परिणाम घोषित नहीं हुआ तब तक भाजपा की ओर से मंत्री तुलसी सिलावट, जिलाध्यक्ष राजेश सोनकर, पूर्व विधायक जीतू जिराती, मनोज पटेल, पर्यवेक्षक सुरेश आर्य तो कांग्रेस की ओर से पर्यवेक्षक महेंद्र जोशी, वरिष्ठ नेता अंतरसिंह दरबार, जिलाध्यक्ष सदाशिव यादव सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण नेता मौजूद थे। इसके पहले चारों जनपदों में भाजपा अध्यक्ष घोषित चुने गए तो आज गांव की सरकार की सबसे बड़ी इकाई जिला पंचायत में भाजपा की रीना मालवीय जीत गईं।

Also Read – इंदौर-देवास के बीच चलने वाली यात्री बस का हादसा, बायपास पर नाले में उत्तरी बस

बड़वानी जिला पंचायत चुनाव में भी बागी बलवंत पटेल अध्यक्ष चुने गए, उन्होंने भाजपा की ही कविता आर्य को 9-5 से हरायाबलवंत पटेल कैबिनेट मंत्री प्रेम सिंह पटेल के पुत्र हैं, जबकि कविता आर्य पूर्व पशुपालन मंत्री और भाजपा नेता अंतर सिंह आर्य की बहू है कविता आर्य को अधिकृत उम्मीदवार घोषित किया गया था किंतु प्रेम सिंह पटेल गुट को कांग्रेस के सदस्यों का समर्थन मिल जाने के उपरांत हुए विवाद के चलते दोनों ने अपना नामांकन भर दिया था

जिला पंचायत के वार्ड 1 पर भाजपा समर्थित श्यामूबाई पति भगवानसिंह परमार और वार्ड 12 में भाजपा समर्थित रीना सतीश मालवीय हैं। दोनों एससी महिला कोटे से हैं। पार्टी के लिहाज से दोनों को ही वरिष्ठ नेताओं का समर्थन है। श्यामू परमार को पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन का समर्थन है। जबकि रीना मालवीय को मंत्री तुलसी सिलावट व जिला अध्यक्ष डॉ. राजेश सोनकर का समर्थन हासिल है। दोनों ही नामों को लेकर कोई विवाद भी नहीं है। दूसरी ओर कांग्रेस के पास 17 में से 5 वार्डों पर ही समर्थित सदस्य हैं। इसमें वार्ड 11 (अजा मुक्त) पर कांग्रेस समर्थित ममता चौबिसिया है। लेकिन कांग्रेस के पास बहुमत नहीं है। ऐसी स्थिति में संभव है कि इस बार कांग्रेस जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर अपना प्रत्याशी ही खड़ा नहीं करे। ऐसे में भाजपा की ही अध्यक्ष निर्विरोध चुनी जाएगी। उपाध्यक्ष पद के लिए दोनों पार्टियों में अभी मंथन ही चल रहा है।