आंतकियों को मदद देने वाले यासिन को एनआईए की गिरफ्त में भेजा |

0
46

जम्मू-कश्मीर में आंतकवादियों और अलगाववादी समूहों को पैसा दिलाने के मामले में जेकेएलएफ प्रमुख यासीन मलिक को दिल्ली की राकेश स्याल की अदालत में पेश किया गया। जिसमें कोर्ट ने यासिन को 22 अप्रैल तक एनआईए (राष्ट्रिय जांच एजेंसी) की हिरासत में रखने का निर्देश दिया।

जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) प्रमुख यासिन पर 1989 में केंद्रीय गृहमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी रुबैया सईद का अपहरण करने और 1990 के शुरुआती दौर में भारतीय वायुसेना के चार कर्मियों की हत्या में शामिल होने का आरोप है।

यासिन के साथ इस मामले पर आंतकी हाफिज सईद का भी नाम जुडा है। इसमें सैयद अली शाह गिलानी और मीरवाइज उमर फारूक वाले हुर्रियत कांफ्रेंस के गुट, हिजबुल मुजाहिदीन और दुख्तरान-ए-मिल्लत के नाम शामिल हैं। हाल ही में जेकेएलएफ पर कानून के तहत प्रतिबंध लगाया गया था।

गृह मंत्रालय की एक अधिसूचना में बताया गया था कि कश्मीर घाटी से कश्मीरी पंडितों को निकालने का मास्टरमाइंड यासीन मलिक था।

Read more : पहले चरण की 15 सीटें जहां हर बार नई सरकार को मिलता है मौका | 15 seats in the first phase, where every time the new government gets chance

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here