पहलवानों और कुश्ती संघ के अध्यक्ष के बिच फिर हुआ विवाद यह थमने को नाम नहीं ले रहा है। इसकी जांच पड़ताल चल रही है। खेल मंत्रालय ने भी जांच पड़ताल के लिए निगरानी समिति गठन कर दिया है। खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा था।कि यह समिति आरोपों की जांच कर एक महीने में अपनी रिपोर्ट पेश करेगी।लेकिन पहलवानों ने इस समिति का विरोध किया उनका यह कहना है। की यह संगठन बनाने से पहले हमसे कोई राय नहीं ली गई थी। और उन्होंने कहा है इस समिति को हम चलने नहीं देंगे और इस चीज की उन्होंने अपील भी की है

बजरंग पुनिया और विनेश फोगाट ने विरोध जताते हुए टवीट किए हैं। की हमें निगरानी समिति के गठन से पहले हमसे कोई परामर्श नहीं किया गया था। अगर ऐसा कुछ होगा तो हमसे परामर्श करके ही होगा बिना हमें बताएं कुछ नहीं होगा, उन्होंने कहा है कि हमारे लिए बड़ी दुख की बात है कि हमसे कोई राय नहीं ली गयी।दिनेश फोगाट ने सरकार से यह मांग भी की वह एक नयी समिति का गठन करें, और जो हम चाहेंगे वही मेंबर्स नयी समिति में शामिल होंगे।

Also Read -मैं गुलाम नबी आजाद से माफी मांगता हूं’, राहुल गांधी ने क्यों दिया ये बड़ा बयान

 

दिनेश फोगाठ ने यह भी कहा है कि यह महिलाओं का मामला है। और यह बहुत गंभीर बात है इसलिए हमें उम्मीद है कि मंत्रालय हमारी बात जरूर सुनेगा।खेल मंत्री जी का यह कहना था कि पहलवानों के आरोपों की बात को मंत्रालय ने बड़ी देर बाद और धैर्य से सुना यह बड़ी गंभीर बात है।और इस बात पर हम विचार करते हुए ही निगरानी समिति का गठन किया है। इसके बाद असिस्टेंट सेक्रेटरी को भी सस्पेंड कर दिया गया है और टूर्नामेंट भी रोका गया है निगरानी समिति जल्दी जांच पड़ताल शुरू करेगी।

ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो सके हमारे लिए दोनों बहुत महत्वपूर्ण है खेल और खिलाड़ी के लिए हम कुछ भी कर सकते हैं क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हम कुछ गलत काम होने नहीं देंगे क्योंकि हमारा देश मैं उन्होंने अच्छे काम किए हैं और सब को यही सलाह देते हैं। इसलिए हम चाहते हैं। की आगे भी बहुत अच्छा हो।