एक लाख रु, एक साल का बच्चा, एक गेंद नही डली

0
75

नॉटिंघम से परीक्षित यादव

नई दिल्ली: नॉटिंघम के मैदान पर मुकाबला तो हो रहा था, लेकिन बारिश और मैदान सुखाने वालों के बीच। खिलाड़ी तो कांच में से ही झांकते रह गए। टीमें प्रैक्टिस के लिए भी बाहर नहीं आ पाई। मुकाबले में जब बारिश भारी पड़ती तो सन्नाटा छा जाता, लेकिन जैसे ही ग्राउंड्स मेन कवर्स हटाते शोर मचने लगता। यह लुक्का चुप्पी दिन भर चलती रही, आखिर में बारिश ने बाजी मार ली। मैदान मैं मौजूद खिलाड़ी, पत्रकार, दर्शक, आयोजक सब हार गए। आस-पास वाले तो हंसते खेलते निकल गए लेकिन ज्यादा मायूसी उन चेहरों पर थी, जो लाखों रुपए खर्च कर घंटों धक्के खाने के बाद नॉटिंघम पहुंचे थे। कई तो ऐसे थे जिन्हें सिर्फ भारत-न्यूजीलैंड मैच का टिकट ही मिला था।

ग्लास्गो से पहुंचे दंपत्ति राघव सान्याल और नेहा सान्याल के साथ उनका 1 साल का बेटा भी था। उसे क्रिकेटर बनाने का सपना सजाने वाली मां नेहा ने रुंधते गले से कहा मेरा बेटा उसका पहला मैच नहीं देख पाया। हमने महीनों पहले तैयारी की थी लेकिन सब चौपट हो गया। राघव ने बताया कि यहां पहुंचने के लिए हम खूब परेशान हुए हैं। ट्रेन -बस सब लेट चल रहे हैं। 500 किलोमीटर की दूरी जो साढ़े 4 घंटे में पूरी होती है हमने 9 घंटे में पूरी की है। टिकट और दूसरा खर्चा मिलाकर 900 से ज्यादा पॉइंट यानी करीब एक लाख रुपये खर्च हो गया। मैच नहीं होगा यह शक तो था लेकिन दुख इस बात का है कि खिलाड़ी भी नजर नहीं आए। वह प्रैक्टिस ही कर लेते तो मन बहल जाता। अब मैनचेस्टर जाना है ,लेकिन वहां के टिकट का जुगाड़ नहीं हुआ है। जो टिकट हफ्ते भर पहले 400 पौंड में मिल रहा था वह 800 से ज्यादा महंगा हो गया है। उसकी भी कोशिश की है लेकिन इंतजाम नहीं हो पा रहा है।

न्यूयॉर्क से आए छात्र सागर पटेल ने बताया कि मैंने भारत आर्मी से टिकट खरीदा था। मैच नहीं होने पर वह आधा पैसा लौटा देते हैं। परीक्षा चल रही है लेकिन मैं पेपर के बीच में मैच देखने चला आया। घर वालों की भी नहीं सुनी। भारत के सभी मैचों में इसी मैच का टिकट आसानी से मिल रहा है। स्विट्जरलैंड से पहुंची नीना गुप्ता ने बताया कि मुझे तो शक है कि मैनचेस्टर में भी पानी ना गिर जाए। हम लोग काम छोड़कर मैच देखने इंग्लैंड पहुंचे हैं और मौसम है कि मान ही नहीं रहा।

भीड़ में एक शख्स ऐसा भी था जो पूर्व आईपीएल चेयरमैन राजीव शुक्ला पर बरस रहा था। शुक्ला जब बाहर निकले तो उसने चिल्लाकर कहा” मत लो उसके साथ सेल्फी , आईपीएल का घोटालेबाज है यह”। शख्स के दोस्त उसे समझा रहे थे लेकिन वह किसी की नहीं सुन रहा था। शुक्ला ने भी उसकी आवाज सुन ली लेकिन चेहरा घुमा कर निकल गए ।कुछ दीवाने ऐसे भी थे जिन्हें ज्यादा फर्क नहीं पड़ा ।यह नारा लगा रहे थे कि “वी आर कमिंग फॉर यू पाकिस्तान”।

साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया वाले मैचों में एक दो शख्स हरी और पीली टीशर्ट में नजर भी आए थे, लेकिन नॉटिंघम वाले मैच में न्यूजीलैंड का झंडा पकड़े कोई नजर नहीं आया । 75 फ़ीसदी स्टेडियम खाली पड़ा था। जो 25 फ़ीसदी आए थे वह आखरी तक डटे रहे ।आखरी ऐलान के बाद ही कुर्सी छोड़ी। आय भी बारिश में थे और गए भी भीगते हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here