Breaking News

विंग कमांडर अभिनंदन नम आंखों से बोले, अब अच्छा लग रहा

Posted on: 02 Mar 2019 07:33 by Pawan Yadav
विंग कमांडर अभिनंदन नम आंखों से बोले, अब अच्छा लग रहा

भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन 60 घंटे बाद जब अपने वतन लौटे, तो देशभर में लोगों ने जमकर जश्न मनाया। लोगों ने भारत माता की जय के नारे लगाए, तो किसी ने मिठाई बांटकर खुशी मनाई। वहीं युवाओं ने तिरंगा यात्रा निकालकर अभिनंदन का स्वागत किया। इधर, शुक्रवार रात जब विंग कमांडर अभिनंदन दिल्ली पहुंचे, तो लोगों ने पालम हवाई अड्डे पर उनका जोरदार स्वागत किया। लोगों में देशप्रेम और उत्साह देखकर विंग कमांडर अभिनंदन आंखें नम हो गई और मुस्कुराते हुए कहा कि अब वतन आकर अच्छा लग रहा है।

गौरतलब है कि 27 फरवरी को भारत-पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों के संघर्ष के दौरान मिग-21 विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था और विंग कमांडर अभिनंदन पाक सीमा में जा गिरे थे। तीन दिन तक पाकिस्तान की गिरफ्त में रहने के बाद अभिनंदन भारत लौटे हैं।

जब पीएम मोदी बोले, मुझे इन पर गर्व है

इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने कन्याकुमारी में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि हर भारतीय को गर्व है कि बहादुर विंग कमांडर अभिनंदन और देश की पहली महिला रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण भी तमिलनाडु से हैं। मुझे इनपर गर्व है। नरेंद्र मोदी बीजेपी सरकार के कार्यों को गिनाते हुए कहा कि मैंने मदुरै से चेन्नई तक चलने वाली सबसे तेज ट्रेन तेजस को हरी झंडी दिखाई है। यह ट्रेन चेन्नई की कोच फैक्ट्री में बनाई गई है। जो मेक इन इंडिया का उदाहरण है। उन्होंने कहा कि लोग ईमानदारी चाहते थे, वंशवाद नहीं। लोग विकास चाहते थे, लोग प्रगति चाहते थे, पॉलिसी पैरालिसिस नहीं।

इसके पहले बीते मंगलवार शाम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मेट्रो की सवारी की । वे दिल्ली में इस्कान मंदिर जाने के लिए मेट्रो में सवार हुए। इस दौरान कई यात्रियों ने उनके साथ सेल्फी ली। इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा कि भारत पिछले कई वर्षों से आतंकवाद से जूझ रहा था अब भारत आतंकवाद के मसले पर असहाय नहीं हैं। भारत ने पाकिस्तान में घुसकर एयर स्ट्राइक की और आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को तबाह कर दिया। भारतीय सेना की इस बहादुरी को सभी ने देखा है। पीएम मोदी ने कहा, श्देश की सेवा में जी जान लगाने वाले सभी बहादुर सैनिकों को मैं सलाम करता हूं। इनकी सतर्कता के चलते हमारा देश सुरक्षित है। साल 2004 से 2014 के बीच भारत में कई आतंकवादी हमले हुए। देश को उम्मीद थी कि आतंकवादियों को उनके करतूत की सजा मिलेगी, लेकिन कभी कुछ नहीं हुआ।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com