Breaking News

…बंद हो जाएगी मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सुविधा

Posted on: 25 Jun 2018 08:27 by Praveen Rathore
…बंद हो जाएगी मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सुविधा

मुंबई। यदि आप अपना मोबाइल नंबर बदले बिना अपनी टेलीकॉम कंपनी बदलना चाहते है, तो मार्च 2019 के पहले ये काम करवा लीजिए, क्योंकि इस अवधि के बाद ये काम करने वाले दोनों कंपनी की लाइसेंस अवधि खत्म हो रही है, और इन कंपनियों ने सरकार को पत्र लिखा है कि ये पोर्टेबिलिटी शुल्क में 80 फीसदी तक कमी होने के कारण इनको घाटा हो रहा है और ये अपना कारोबार लाइसेंस अवधि समाप्त होते ही बंद करना चाहती है।

तीन जुलाई 2015 को शुरू हुई थी सुविधा
तीन जुलाई 2015 को केंद्र सरकार ने मोबाइल सर्विस प्रदाता कंपनी बदलने की सुविधा उपभोक्ताओं को दी थी। इसके बाद अपनी मौजूदा मोबाइल कंपनी के सर्विस से परेशान करोड़ों लोगों ने इस सुविधा का लाभ उठाया और आज भी इस सुविधा का फायदा ले रहे हैं। इस सुविधा को मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी नाम दिया गया था।

दूरसंचार कंपनी को पत्र लिखा
आपको बदा दें कि मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी सुविधा देने वाली देश की दो कंपनियां हैं, जिनके जिम्मे दक्षिण पूर्व और उत्तर-पश्चिम की जिम्मेदारी है। किन्तु ये कंपनियां लगातार घाटे में होने से बंद होने की कगार पर पहुंच गई है। इन कंपनियों का कहना है कि इनका हर दिन घाटा बढ़ता जा रहा है क्योंकि ट्राई के आदेश से नंबर पोर्टेबिलिटी का शुल्क कम हो गया है और इन कंपनियों को रोज घाटा हो रहा है, जो अब ये और घाटा सहन नहीं कर सकती है।

एमएनपी इंटर कनेक्शन टेलीकॉंम सॉल्युशंस और सीनिवर्स टेक्नालॉजीस ने दूरसंचार मंत्रालय को पत्र लिखकर कहा है कि ट्राई के निर्देशानुसार नंबर पोर्टेबिलिटी शुल्क में जनवरी तक 80 फीसदी शुल्क कटौती कर दी गई है, जिससे हमको रोज नुकसान हो रहा है। हम ये नुकसान नहीं उठा सकते हैं, इसलिए मार्च 2019 में हमारे लाइसेंस की अवधि समाप्त हो रही है, इसके बाद हम लाइसेंस रिन्यू नहीं करवाएंगे और अपना कारोबार बंद कर देंगे।

इसके बाद फिलहाल नहीं होगा ऑप्शन
अगर इन कंपनियों की धमकी पर ध्यान नहीं दिया गया तो उपभोक्ताओं को कॉल क्वालिटी, टैरिफ और अन्य शिकायतों पर बगैर मोबाइल नंबर बदले अपनी टेलीकॉम सर्विस प्रदाता कंपनी को बदलने की सुविधा या नंबर पोर्टेबिलिटी सुविधा बंद हो सकती है। आपको बता दें कि देश में दो ही कंपनी है, जिनके जिम्मे ये काम सौंपा गया है, एमएनपी इंटर कनेक्शन टेलीकॉंम सॉल्युशंस दक्षिण और पूर्वी भारत और सीनिवर्स टेक्नालॉजीस उत्तर व पश्चिमी भारत में काम करती है। इस साल मार्च तक ये दोनों कंपनियां ३७ करोड़ नंबर पोर्टेबिलिटी कर चुकी है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com