आबकारी अधिकारी पराक्रमसिंह अब तक निलंबित क्यों नहीं, वित्त मंत्री की भूमिका पर सवालिया निशान ?

0
20

धार के जिला आबकारी अधिकारी पराक्रमसिंह के यहाँ डले लोकायुक्त छापे के बाद भी आबकारी मंत्री जयंत मलैया, आबकारी अफसर पराक्रमसिंह को अब तक निलंबित क्यो नही कर पा रहे हैं ?  लोकायुक्त छापे के दौरान पराक्रमसिंह के घर से बड़ी मात्रा में शराब जब्त हुई थी जिस पर आबकारी एक्ट के तहत प्रकरण भी दर्ज हुआ है.

इसे विडंबना ही कहेंगे कि जो अफसर आबकारी एक्ट के तहत लोगों के प्रकरण बनाते थे समय की मार ने उन पर प्रकरण दर्ज करा दिया. नियमानुसार जिस अफसर के यहाँ छापे डलते लोकायुक्त उनको हटाने के लिये सरकार को लिख देते हैं जिस पर सरकार को कार्यवाही करना होता है. पराक्रमसिंह के यहाँ लोकायुक्त के छापे ऐसे समय पड़े जब  प्रदेश में विधानसभा चुनाव को कम समय बचा है जिससे सरकार की बदनामी हो रही है.

 किंतु आबकारी मंत्री जयंत मलैया पर शासन का अब तक कोई कार्यवाही न करना संदेह पैदा कर रहा है. शराब लाबी का एक धड़ा पर्दे के पीछे रहकर पराक्रमसिंह के लिये डेमेज कंट्रोल का काम कर रहा है जिसमे उज्जैन संभाग में पदस्थ एक आबकारी अधिकारी भी शामिल हैं.

ज्ञात हो कि अग्निब्लास्ट ने छापे के दौरान बंगले से बैग बाहर जाने, संदिग्ध लोगों के बंगले से अंदर बाहर घूमते प्रमाण जारी किये थे. लोकायुक्त छापे के दौरान एक बिल्डर के ठिकानों पर जांच की गई तो इंदौर से भोपाल तक खलबली मची हुई थी.  हाईप्रोफाइल राजनीतिक गठजोड पर सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं कि क्या सरकार की मिलिभगत से मामले को दबाया जा रहा है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here