Breaking News

मोदीजी आधा घंटा विलंब क्यों हुआ, कुछ तो बात है! | Why delayed for half an hour Modiji?

Posted on: 28 Mar 2019 12:36 by Surbhi Bhawsar
मोदीजी आधा घंटा विलंब क्यों हुआ, कुछ तो बात है! | Why delayed for half an hour Modiji?

सतीश जोशी

देश की सांसें थम सी गईं थीं, जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीटर पर कहा-सुबह ग्यारह बजकर पैंतालीस मिनट से बारह बजे के बीच कोई खास संदेश देश की जनता को दूंगा।वैसे रात आठ बजे पांच- सौ, एक हजार के नोट चलन से बाहर होने की मोदी की घोषणा सबको याद है। रात बारह बजे जीएसटी और अल सुबह पौ फटने के पहले सर्जिकल स्ट्राईक और फिर ताजी एयर स्ट्राईक तो सबके जेहन में ताजा है। लोकसभा चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, मतदाता कहीं अपने उम्मीदवारों से मुखातिब है तो कहीं उम्मीदवारों के चयन की प्रक्रिया जारी है। आज इस घटनाक्रम के बीच दो हजार का गुलाबी नोट संकट में जाने का संदेह लोगों के सिर चढ़कर बोलने लगा। जम्मू-कश्मीर, अलगाववादियों पर सख्त कार्रवाई, उनको हो रहे टेरर फंडिंग और आतंकियों के ठिकानों पर नए अटेक जैसी अटकलें चर्चा में आम थीं।

must read: पीएम मोदी बोले, भारत ने अंतरिक्ष में की सर्जिकल स्ट्राइक |PM Modi says, India’s surgical strike in space

घड़ी की कांटा आगे बढ़ रहा था, बारह भी बज चुके थे, मोदी रेडियो, ट्वीटर या टीवी पर नहीं आए। सांसे थम सी गईं थी, हाथों के रिमोट इस, उस चैनल पर जाते और डीडी न्यूज पर आकर टिक जाते। समय बढ़ता गया। आखिर इंतजार खत्म हुआ और साढ़े बारह बजे देश की अवाम से जो कुछ प्रधानमंत्री ने कहा, वह बात बड़ी थी पर जिस तरह से सनसनी बनाई गई थी क्या वह वैसी खबर थी? हर कोई कहेगा नहीं…., उन्होंने बताया कि भारत अंतरिक्ष के क्षेत्र में महाशक्ति बन गया है। हमारी ब्लास्टिक मिसाईल ने तीन मिनट में तीन सौ किलोमीटर दूर जाकर एंटी सेटेलाईट को उड़ा दिया। निश्चित ही यह पहली बार हमने किया। मगर इसरो, डीआरडीओ अनुसंधान करते रहते हैं, सेटेलाईट मिशन अपनी गति से काम करता है।

जनवरी 2019 में इस सेटेलाईट को तीन सौ किलोमीटर दूर अंतरिक्ष में रक्षा जरूरतों के मद्देनजर स्थापित किया गया था, तभी आज की तिथी तय थी, टारगेट पर अटेक करने की। सो आज हुआ और यह सूचना इसरो ने न देकर या डीआरडीओ ने नहीं देने की बजाय मोदी ने दी। सर्जिकल स्ट्राईक की जानकारी सेना के अधिकारी ने देश को दी, क्या यह काम डीआरडीओ से नहीं करवाया जा सकता था? मोदी की घोषणा एेसी निकली जैसे खोदा पहाड़ निकली चुहिया, नहीं चुहिया की पूछ भी नहीं निकली।

must read: पीएम मोदी बोले, भारत ने अंतरिक्ष में की सर्जिकल स्ट्राइक |PM Modi says, India’s surgical strike in space

मंत्रिमंडल की अपने आवास पर बैठक बुलाना,वहां एनएसए चीफ डोभाल भी मौजूद थे, क्या इसके अलावा कोई नीतिगत विषय पर चर्चा हुई? क्या पीएम कोई बड़ा कदम उठाना चाह रहे थे? क्या कोई ऐसा कदम था जो नोटबंदी या जीएसटी से भी बड़ा मामला था, जिससे उपजे हालात चुनाव में बड़ी मुसीबत बन सकते थे? अंदरखाने यह भी चर्चा है कि वरिष्ठ मंत्री साथियों ने मोदी-डोभाल को वह करने से रोका और तीर अंतरिक्ष में मोड़ दिया। क्या बड़े नेताओं के काले धन या कोई बड़ी कार्रवाई जो देश में राजनीतिक तूफान खड़ा कर सकती थी।

ताजे सर्वे में अकेले भाजपा का गणित गड़बड़ा रहा है, मोदी की किसान सहायता पर गरीब को राहुल के 72 हजार भारी पड़ रहे हैं? आखिर मोदी का संदेश आधा घंटे देरी से क्यों आया, वे तो समय के पाबंद हैं, उनके स्वर बारह बजे के पहले क्यों नहीं सुनाई दिए? कुछ तो है, जो अवाम से छुपाया जा रहा है, कुछ तो है जो मोदी को कदम पीछे खींचने को मजबूर कर गए। इसकी कहानी भी बाहर आएगी, क्योंकि दीवारों के भी कान होते हैं, क्या समझे, नहीं समझे।

must read: तो नरेंद्र मोदी लड़ सकते हैं इंदौर से चुनाव | Narendra Modi can contest Loksabha Election from Indore

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com