Breaking News

एक कस्टमर की वजह से एयरटेल को क्यों देना पड़ी सोशल मीडिया पर सफाई

Posted on: 20 Jun 2018 11:12 by Praveen Rathore
एक कस्टमर की वजह से एयरटेल को क्यों देना पड़ी सोशल मीडिया पर सफाई

नई दिल्ली. अग्रणी निजी दूरसंचार कंपनी एयरटेल एक कर्मचारी के कारण धार्मिक विवाद में उलझ गई। असल में विवाद तब पैदा हुआ जब एयरटेल डीटीएच की एक ग्राहक ने एयरटेल के मुस्लिम कर्मचारी से बात करने से इनकार कर दिया। कहा जाता है कि इस घटना के बाद कस्टमर के कहने पर कंपनी ने कर्मचारी बदल दिया। इस पर कंपनी की काफी आलोचना हुई। इधर, कंपनी ने ट्विटर पर सफाई दी कि कंपनी किसी भी धार्मिक कट्टरता के आगे नहीं झुकी है।

दरअसल एयरटेल पर अपने कर्मचारी से भेदभाव करने का आरोप लगा था। कंपनी पर आरोप था कि एक कस्टमर द्वारा मुस्लिम कर्मचारी से बात करने से इनकार के बाद कंपनी ने उसे दूसरा कर्मचारी उपलब्ध कराया। ट्विटर पर कंपनी सफाई दी, कहा-वह किसी भी धार्मिक कट्टरता के आगे नहीं झुकी। कंपनी का कहना है कि पिछले 24 घंटों में बहुत कुछ हुआ और बहुत कुछ कहा गया, जिनमें अधिकतर बातें झूठी और गलत थीं। कंपनी ने स्पष्ट किया कि इस घटना के बावजूद एयरटेल के ट्रेनिंग मैन्युअल में सवालों का जवाब देने से पहले ग्राहक की (धार्मिक, जातीय आदि) पहचान पर गौर किए जाने का निर्देश कभी शामिल नहीं किया जाएगा। कंपनी ने माना कि उनके कर्मचारियों, गगनजोत और शोएब को इस घटना से शायद यह कड़वा अनुभव हुआ होगा कि उनकी धार्मिक पहचान मायने रखती है।

ये था विवाद
ध्यान रहे कि कि पूजा सिंह नाम की एक कस्टमर ने ट्विटर पर डीटीएच सर्विस से संबंधित शिकायत एयरटेल से की जिसके जवाब में कंपनी की ओर से शोएब नाम के एक कर्मचारी ने ट्वीट किया। इस पर लडक़ी ने उस कर्मचारी से आगे बाचतीत करने से इनकार कर दिया कि उसे मुस्लिम कर्मचारी पर भरोसा नहीं है। इसके बाद पूजा के सवालों का जवाब देने के लिए गगनजोत नाम का दूसरा कर्मचारी सामने आया। कंपनी के इस फैसले को धार्मिक कट्टरता के सामने समर्पण के तौर पर देखा गया और कड़ी आलोचना होने लगी। यहां तक कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने एयरटेल की सारी सेवाएं बंद कराने का ऐलान कर दिया।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com