एमटीएच अस्पताल में हुए करोड़ के घोटाले की रिपोर्ट किसने दबाई

0
32

अर्जुन राठौर

एम टी एच महिला अस्पताल में 4 करोड़ का घोटाला उजागर हुआ था लेकिन इस पूरे मामले को दबा दिया गया लोक निर्माण विभाग की निर्माण एजेंसी और और ठेकेदार द्वारा किए गए घोटाले का मामला चिकित्सा शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव तक पहुंचा था और उसके बाद भोपाल से एमजीएम मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को जांच के आदेश जारी किए गए थे

शिकायत में तत्कालीन परियोजना अधिकारी जयदेव गौतम और दो अन्य सहायक परियोजना अधिकारी के साथ ही ठेकेदार सीके असाटी सहित अन्य अधिकारियों के नाम शामिल थे लेकिन इनके खिलाफ आज तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है

उल्लेखनीय है कि यहां हुई जांच में यह पता चला था कि अस्पताल की पुरानी बिल्डिंग तोड़ने और मलबा हटाने के लिए निविदा के माध्यम से पांच लाख में ठेका दिया गया था ठेकेदार द्वारा काम पूरा करने के बाद अधिकारियों ने नए ठेकेदार को उसी निविदा का मलबा हटाने के लिए नो लाख 30,000 का भुगतान कर दिया इसी तरह कार्य करने के पूर्व पुस्तिका में लेबल रिकॉर्ड नहीं दर्ज किए गए

न हीं लेबल द्वारा ठेकेदार को भुगतान किया गया और नहीं सक्षम अधिकारी से प्रमाणित कराया गया दस्तावेजों के हिसाब से 14482 पॉइंट 6 मीटर खुदाई की जबकि ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के लिए भुगतान 32121 मीटर के हिसाब से 21 लाख 69 हजार का किया गया जो की खुदाई के मान से 5 लाख 40 हजार ज्यादा है खुदाई के फर्जीवाड़े का असर अन्य मामलों पर भी पड़ा जिसके लिए 50 लाख 70 हजार का अतिरिक्त भुगतान ठेकेदार को किया गया

अब जबकि यह भवन पूरी तरह से बनकर तैयार हो गया है तब तक भी शासन के साथ करोड़ों का धोखा करने वाले अधिकारियों और ठेकेदार के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होना आश्चर्यचकित करता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here