Breaking News

जब भावुक सचिन तेंदुलकर ने तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह का फोन भी नहीं उठाया था

Posted on: 04 Jan 2019 10:22 by Ravindra Singh Rana
जब भावुक सचिन तेंदुलकर ने तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह का फोन भी नहीं उठाया था

मनोज खांडेकर

भारत और वेस्टइंडीज के बीच 2013 नवंबर में मुंबई में खेला गया टेस्ट मैच कोई क्रिकेट प्रेमी कैसे भूल सकता है… वानखेड़े का स्टेडियम सचिन-सचिन-सचिन के शोर से गूंज रहा था… आखिरी बार इंटरनेशनल मैच खेल रहे सचिन ने मैदान से विदाई लेने के पहले 22 मिनट का अद्भुत भाषण दिया था… अंत में पिच को नमन कर वह मैदान से बाहर चले गए थे…

ये पूरा वाकया क्रिकेट प्रेमियों के दिलो दिमाग पर अमिट छाप छोड़ गया था… लेकिन इसके आगे की कहानी सचिन के करीबियों और उस वक्त के  प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व उनके स्टाफ को ही पता थी…

दरअसल, क्रिकेट को हमेशा के लिए अलविदा कह देने के बाद सचिन तेंदुलकर घर पहुंचकर बेहद भावुक हो गए थे… उनके घर पर लगातार फोन की घंटी बज रही थी लेकिन वह किसी से भी फोन पर बात नहीं कर रहे थे… एक ऐसा ही फोन प्रधानमंत्री कार्यालय से भी आया था जहां से उन्हें खुद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भारत रत्न दिए जाने की सूचना देना चाहते थे, लेकिन भावुक सचिन के घर पर फोन की घंटी बजती रही और प्रधानमंत्री बात करने के लिए इंतजार ही करते रहे…

सचिन से जब बात नहीं हो पाई तो प्रधानमंत्री कार्यालय ने वहां मौजूद केन्द्रीय मंत्री राजीव शुक्ला से बात की… उन्हें बताया कि खुद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सचिन से बात करना चाहते हैं… इसके बाद सचिन की प्रधानमंत्री से फोन पर बात हो पाई…

प्रधानमंत्री ने उन्हें देश के सर्वोच्च सम्मान के लिए चुने जाने पर बधाई दी थी… उन्होंने कहा था, ‘मुझे उम्मीद है कि आप खेलों की दुनिया और लोगों से अपना जुड़ाव बनाए रखेंगे और देश के प्रति अपनी सेवा जारी रखेंगे.’

भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित होने वाले वह सर्वप्रथम खिलाड़ी और सबसे कम उम्र के व्यक्ति है.

फेसबुक वॉल से साभार

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com