व्हाट्सएप जासूसी कांड की होगी जांच, तीन सदस्यीय कमेटी गठित

0
24
WhatsApp

रायपुर। भारत में हुए व्हाट्सएप जासूसी कांड मामलें में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जांच के आदेश दिए हैं। जिसके लिए तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया हैै। बताया जा रहा है कि कमेटी एक माह के भीतर अपनी जांच रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी। इसके बाद आगे की कार्रवाई तय होगी। गौररतलब है कि इजराइल की एक कंपनी ने दुनिया भर के 1400 लोगों का व्हाट्सएप हैक कर लिया था। जिसमें भारतीय पत्रकारों और समाजसेवियों के नाम भी शामिल थे।

बता दे कि सीएम बघेल ने इसको लेकर एक ट्वीट भी किया है। जिसमें उन्होने कहा है कि ‘जासूसी करना जासूसों का काम है, वो इसे करते रहेंगे। नागरिकों की निजता को सुरक्षित रखना मेरी जिम्मेदारी है. मैं भी इसे करता ही रहूंगा।‘

बताया जा रहा है कि मिली छत्तीसगढ़ में भी पांच लोगों का वाट्सएप हैक किया गया था और जासूसी की गई थी। इनमें सामाजिक कार्यकर्ता बेला भाटिया, आलोक शुक्ला, शालिनि गेरा, अधिवक्ता डिग्री चैहान और पत्रकार शुभ्रांशु चैधरी के नाम शामिल है। मीडिया रिर्पोट्स की माने तो मई और जून 2019 के दौरान इनके फोन की जासूसी किए जाने की जानकारी इन्हे वाट्सएप ने ही दी थी। इसी को लेकर अब जांच के निर्देश दिए गए हैं।

क्या है मामला

दरअसल, व्हाट्स एप ने इजराइल की कंपनी एनएसओ ने भारतीय पत्रकारों और समाजिक कार्यकर्ताओं की जासूसी की थी। व्हाट्सएप की ओर से इस कंपनी पर मुकदमा भी इर्ज किया गया है। व्हाट्स एप के एक अधिकारी के अनुसार एनएसओ पीगासूस सिस्टम के माध्यम से भारतीय पत्रकारों और मानवधिकार कार्यकर्ताओं की जासूसी कर रही थी। एक दर्जन से अधिक वकील, प्रोफेसर, दलित कार्यकर्ता और पत्रकारों को भी मामले में सतर्क रहने के लिए कहा गया है। एनएसओ पर आरोप है कि उसने करीब 1,400 यूजर्स का निजी डाटा चुराया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here