Breaking News

OMG! ये कैसा स्कूल, जहां फीस के बदले मांगा जाता है कचरा | What Kind of School is this where the Garbage is asked for the Fee…

Posted on: 10 May 2019 13:15 by shivani Rathore
OMG! ये कैसा स्कूल, जहां फीस के बदले मांगा जाता है कचरा | What Kind of School is this where the Garbage is asked for the Fee…

आजकल की इस अजीबों-गरीब दुनिया में क्या-क्या लोग कर सकते है, इस बात का तो अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता है।क्योंकि न जाने कैसे कैसे आइडियाज लोगों के दिमाग तक पहुंच जाते है और वो इसे करने में सफलता भी हासिल कर लेते है। आपने देखा होगा आजकल लोग सामजिक कार्यों को लेकर अपनी बहुत अधिक रूचि दिखा रही है।

Read More : गजब! टॉयलेट पेपर से वेडिंग ड्रेस बनाकर इस महिला ने बनाया रिकॉर्ड

कोई गरीब बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा दे रहा है, तो कोई गरीबों को दान तो कोई वृद्धा आश्रम में जाकर बुजुर्गों का सहारा बन रहा है, उनकी हर संभव कोशिश के साथ मदद की जा रही है। इस बीच आज हम आपको एक हैरान कर देने वाली खबर के बारें में बताने जा रहे है, जिसके बारें में आपको जानकार आश्चर्य होगा।

जी हां, दरअसल, अभी तक आपने कई सारे स्कूलों के बारें में सूना होगा जो बच्चों को पढ़ाने के बदले में उनके माता-पिता से मनमानी फ़ीस की वसूली करते है, जो कि बिलकुल भी उचित नहीं है। क्योंकि बच्चों का करियर बनाने के लिए माता-पिता को वह फीस की रकम बच्चों के खातिर चुकानी पड़ जाती है, ताकि उनके बच्चों का उज्जवल भविष्य बन सके।

Read More : ट्रंप का मास्क पहनकर चोर ने लूटी ज्वैलरी की दुकान, Video वायरल

लेकिन इस लूटमारी के बीच आज भी एक ऐसा अनोखा स्कूल खुला हुआ है, जो बच्चों की पढाई की फीस के बदले पैसे नहीं बल्कि कचरा मांगता है। आप सुनकर जरुर चौंक गये होंगे परन्तु यह सच है। आपको बता दे कि इस अनोखें स्कूल को चलाने वाले स्टाफ का कहना है कि 2013 में माजिन मुख्तार एक खास प्रोजेक्ट के तहत न्यूयॉर्क से भारत आए थे और उनके काम के सिलसिले में उनकी मुलाकात परमिता शर्मा से हुई थी। जो कि टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (TISS) में सामाजिक कार्य में परास्नातक की पढ़ाई कर रही थीं, अतः संयोग से वह भी शिक्षा क्षेत्र में काम करने की योजना में ही थी।

दोनों ने बाद में सामाजिक चुनौतियों का सामना करते हुए ‘अक्षरा’ नाम का एक यह अनोखा स्कूल शुरू किया। आगे उन्होंने इसको शुरू करने के पीछे का कारण बताते हुए कहा कि, क्लास रूम हर बार जहरीले धुएं से भर जाते थे, ऐसा इसलिए क्योंकि आस-पास का कोई व्यक्ति प्लास्टिक जला देता था और वे इसमें बदलाव के पक्ष में थे।

Read More : “माता-पिता” बने निक और प्रियंका, तस्वीर Viral

इसलिए उन्होंने अपने छात्रों को स्कूल की फीस के रूप में अपने प्लास्टिक कचरे को लाने के लिए प्रोत्साहित करना शुरू कर दिया था। उसके बाद से इन दोनों की चर्चा सोशल मीडिया पर काफी तेजी के साथ की जा रही है साथ ही यह खबर वायरल भी  होना शुरू हो चुकी है।

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com