Breaking News

क्या है चार धाम यात्रा करने का रहस्य, जाने क्या है खास

Posted on: 31 Jan 2019 18:41 by Amit Shukla
क्या है चार धाम यात्रा करने का रहस्य, जाने क्या है खास

चार धाम यात्रा हमारे देश में एक बहुत ही खास यात्रा है, जो हिन्दू धर्म में हिन्दुओं के द्वारा कि जाती है और हिन्दू के लिए ये बेहद ही महत्वपूर्ण यात्रा है। हिन्दू धर्म में चार ऐसे पवित्र मंदिर है, जिन्हें चार धाम की संज्ञा दी गई है। जिनके दर्शन करना ही चार धाम यात्रा कहलाती है। क्या आपने कभी ये जानने कि कोशिश की है कि आखिर क्यों हम हिन्दू इस यात्रा को करते है और इसको करने से क्या महत्व एवं लाभ होते है।

तो आइये जानते हैं क्या हैं इस यात्रा को करने के महत्व। और इसके पीछे के कारणों को। कुछ कारण लोगों की भावनाओं से जुड़े हैं, तो कुछ विभिन्न मान्यताओं पर आधारित हैं। लेकिन इससे भी पहले जानते है कि ये चार धाम कौन से हैं? ऐसा कहा जाता है उत्तराखंड में ही ये चार धाम है और वे इस प्रकार हैं – यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ। परन्तु आद्यशंकराचार्यजी के अनुसार इन चार धामों की प्रत्येक हिन्दू को जीवन में एक बार अवश्य यात्रा करनी चाहिए। वे कुछ ऐसे हैं – उत्तर में बद्रीनाथ, दक्षिण रामेश्वर, पूर्व में पुरी और पश्चिम में द्वारिका है।

आद्यशंकराचार्यजी ने इन मंदिरों का नाम इसलिए लिया, क्योंकि उनके अनुसार ये चार मंदिर भारत कि संस्कृति का बहुत बड़ा सबूत हैं और मुख्य रूप से ये भारत के चारों दिशाओ में हैं। इसलिए इन्हें चार धाम बताया गया है। आद्यशंकराचार्यजी के अनुसार भारतवासी इसी बहाने पूरे भारत का भ्रमण भी कर लेगे।

संस्कृतिकरण

इस यात्रा को करने का संस्कृतिक कारण यह भी है कि इस यात्रा से लोग भारत के कल्चर, संस्कृति और वहां के रहन-सहन को जान पाएगें और भारतीय सभ्यता के अनुसार चार धाम यात्रा करने से उन्हें मोक्ष कि प्राप्ति होगी। ये यात्रा जीवन-मरण के माया जाल से लोगों को बाहर निकालता है और मन को शांत रखता है।

वैज्ञानिक कारण

वैज्ञानिकों के अनुसार ये चार धाम जिन-जिन जगहों पर बने हैं, वहां का वातावरण स्वास्थ्य के अनुकूल होता है। चार धाम यात्रा से स्वास्थ्य संबंधी फायदा मिलता है जो ‘मानसिक शांति’ प्रदान करता है। चार धाम यात्रा करने वाला भक्त प्रभु का गुणगान करते हुए अपनी चिंताओं को भूल जाता है। इन मंदिर के आसपास फैली हरी-भरी वादियां आपको यहीं बस जाने के लिए मजबूर करती हैं। इन धामों का वातावरण कुछ ऐसा कि किसी न किसी रूप से भक्तों को अपनी ओर खींचता है और यहीं बस जाने को मजबूर करता है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com