मसूद अजहर मामला: भड़के राहुल, बोले- जिनपिंग के आगे झुके मोदी | Weak Modi scared of Xi: Rahul Gandhi on China’s action over Masood Azhar

0
26
rahul-gandhi

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर चीन ने अड़ंगा लगाया है। इस मामले पर भारत को झटका लगा है। चीन द्वारा UNSC में विटो किए जाने के बाद देश में राजनीति तेज हो गई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला है।

must read: यूएस बोला, चीन मसूद को ऐसे ही बचाता रहा तो लेंगे एक्शन Say US, If China keeps saving Masood like this, it will take action

जिनपिंग से डरते है मोदी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट पर प्रधानमंत्री पर हमला बोला है. ट्वीट में उन्होंने लिखा कि ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से डरते हैं। जब भी चीन भारत के खिलाफ कोई एक्शन लेता है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ भी नहीं बोलते हैं।’ इतना ही नहीं राहुल ने मोदी की चीन नीति पर भी तंज कसा है। उन्होंने लिखा पीएम गुजरात में शी जिनपिंग के साथ झूला झूलते हैं, दिल्ली में जिनपिंग को गले मिलते हैं, चीन में उनके सामने झुक जाते हैं।

विफल मोदी सरकार की विफल विदेश नीति हुई उजागर

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि ‘आज फिर आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई को चीन-पाक गठजोड़ ने आघात पहुँचाया है। 56 इंच की ‘Hugplomacy’ और झूला-झुलाने के खेल के बाद भी चीन-पाकिस्तान का जोड़ भारत को ‘लाल-आँख’ दिखा रहा है। एक बार फिर एक विफल मोदी सरकार की विफल विदेश नीति उजागर हुई।’

वही कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश नीति ‘कूटनीतिक आपदाओं’ का सिलसिला है। मोदी सरकार के अलावा कांग्रेस ने इस मामले में अड़ंगा लगाने को लेकर चीन और पाकिस्तान की भी आलोचना की है।

must read: सुषमा स्वराज बोलीं, अब आतंकी हमला हुआ तो चुप नहीं बैठेंगे Sushma Swaraj said, now terrorists will not be silent if attacked

चीन ने चौथी बार डाला अड़ंगा

पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में चीन ने एक बार फिर रूकावट डाली है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ‘‘1267 अल कायदा सैंक्शन्स कमेटी’’ के तहत अजहर को आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव 27 फरवरी को फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका ने लाया था। प्रस्ताव आने के 10 दिन में आपत्ति मांगी गई थी।

इस पर चीन ने आपत्ति जताते हुए भारत से आतंकी मसूद के खिलाफ सबूत देने की मांग कर दी, बल्कि प्रस्ताव की पड़ताल करने के लिए समय भी मांग लिया। इससे यह मामला करीब 6 महीने तक खींचा गया है। गौरतलब है कि 10 साल में संयुक्त राष्ट्र में अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कराने का यह चौथा प्रस्ताव था।

must read: चीन ने चौथी बार डाला अड़ंगा, फिर बच निकला आतंकी मसूद China will put it for the fourth time, then Terrorist Masood escapes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here