घास पर रोज सुबह नंगे पैर चलने से होंगे ये फायदे, आंखों की रोशनी…

सुबह नंगे पांव घास पर चलने से दिमाग शांत रहता है।

0
128
grass

तेजी से बदलती दिनचर्या में लोग अपने आप को फिट रखने के लिए कई प्रकार के जतन करते हैं, ऐसा ही एक मामूली उपाय हम आपको बता रहे है जो आपकी आंखों की रोशनी को बढ़ा देगी। बताया जाता है कि घास पर सुबह-सुबह नंगे पैर चलना चाहिए। इससे हमारी आँखों की रौशनी तो बढ़ती ही है साथ ही तनाव से भी मुक्ति मिलती हैं। आपको बता दे, घास, रेत, और मिट्टी पर बिना जूते-चप्पलों का चलना काफी फायदेमंद होता है।

जमीन पर नंगे पांव चलना एक अच्छा व्यायाम माना जाता है। पुराने समय में लोग जितना बगैर जूतों के ही पैदल चलते थे वह उतने ही स्वस्थ भी रहते थे। यदि आप किसी घास के मैदान या साफ जमीन पर पैदल चल रहे हैं, तो चप्पलों की बजाये नंगे पैर चलने की कोशिश करें। जिससे आपको कई फायदे हो सकते हैं।

पैरों को होते है ये फायेदे –
– पैरों की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। इससे पैरों को भरपूर ऑक्सीजन मिलती है। रक्तसंचार बेहतर होकर घुटने और पैर मजबूत होते हैं जिससे थकान कम होती है।
– अधिक नंगे पैर चलने से पैरों की ब्लॉकेज गांठें ठीक हो जाती हैं।
– पुराने से पुराना सिर, कन्धे और घुटने के दर्द से निजात मिलता है। पैरों में लचीलापन और गतिशीलता आती है।

1.आंखों की रोशनी को करता है इंप्रूव –
सुबह जब घास पर नंगे पैर चलते हैं तो हमारी बॉडी का पूरा प्रेशर पैरों के अंगूठों पर होता है। इन प्वाइंट्स की मदद से आंखों की रोशनी तेज होती है। इसके अलावा हरे रंग की घास देखने से आंखों को राहत भी मिलती है।

2.पैरों की होती है एक्सरसाइज –
सुबह नंगे पांव घास पर चलने से पैरों की अच्छी एक्सरसाइज होती है साथ ही इससे पैरों के मांसपेशियों तलवो और घुटनों को रिलेक्स मिलता है।

3.तनाव से मिलता है आराम –
सुबह नंगे पांव घास पर चलने से दिमाग शांत रहता है। सुबह ताजा हवा, सूरज की रोशनी, हरियाली दिमाग को तरोताजा कर देती है। इस वातावरण में रहने से आप काफी रिलेक्स और डिप्रेशन से दूर रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here