डीटीसी बस में विनोद ने किया था शीला दीक्षित को शादी के लिए प्रपोस

0
61

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 81 वर्ष की आयु में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। वह काफी समय से बीमार चल रही थी। जिसके चलते उन्हे शनिवार सुबह उन्हें दिल्ली के एस्कॉर्ट अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

शीला दीक्षित की राजनीतिक यात्रा काफी लंबी रही है। वह 15 सालों तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। उन्होने दिल्ली से ही अपनी पढ़ाई भी पूरी की है। दिल्ली विश्विद्यालय में पढ़ाई के दौरान उनकी की मुलाकात विनोद दीक्षित से हुई जो उस समय कांग्रेस के बड़े नेता उमाशंकर दीक्षित के इकलौते बेटे थे।

एक इंटरव्यू के दौरान शीला दीक्षित ने अपनी लव स्टोरी के बारे बताया कि ‘हम इतिहास की एमए क्लास में साथ-साथ थे। मुझे विनोद कुछ ज्यादा अच्छे नहीं लगे। मुझे लगा ये पता नहीं अपने आप को क्या समझते हैं। वे मुझे एरोगेंट लगे। इसके बाद हमारी दोस्ती की शुरुआत इस तरह हुई कि हमारी एक दोस्त और विनोद का एक दोस्त प्रेमी प्रेमिका थे। हमने एक बार उनके झगड़े को सुलझाया था इसके बाद हम मिलने लगे।‘

शीला और विनोद दीक्षित एक साथ अक्सर फिरोजशाह रोड घूमने जाते थे। एक बार जब वे दोनों डीटीसी की दस नंबर बस से चांदनी चैक से गुजर रहे थे तब विनोद दीक्षित ने उनके सामने शादी का प्रस्ताव रख दिया था। हांलाकि शुरूआत में विनोद के परिवार द्वारा थोड़ विरोध किया गया था। लेकिन बाद में दोनो की शादी हो गई थी।

80 के दशक में एक रेल यात्रा के दौरान शीला दीक्षित के पति विनोद दीक्षित का हार्ट अटैक से निधन हो गया था। इसके बाद शीला ने बच्चों के साथ-साथ ससुर की राजनीतिक विरासत को भी संभाला था। उन्होने पहली बार कन्नौज से लोकसभा चुनाव लड़ा था और जीत दर्ज की थी। बाद में उन्हे राजीव गांधी सरकार में केंद्र में मंत्री बनाया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here