Breaking News

गुजराती के प्रसिद्ध साहित्यकार विनोद भट्ट नहीं रहे

Posted on: 24 May 2018 05:14 by Ravindra Singh Rana
गुजराती  के प्रसिद्ध साहित्यकार विनोद भट्ट नहीं रहे

गुजरात: विनोद भट्ट ने अपनी हास्य व्यंग्य रचनाओं के माध्यम से न केवल गुजराती साहित्य को समृद्ध किया अपितु हिंदी के पाठकों को भी अपनी रचनाशक्ति से प्रभावित किया। एक समय में भारती जी ने ‘धर्मयुग ‘ में उनकी रचनाओं के अनेक अनुवाद प्रकाशित किये थे। उस समय उनको पढ़ने और उनके साथ छपने का सुअवसर मिला।

2016 में व्यंग्य यात्रा एवं गुजराती साहित्य परिषद के संयुक्त तत्वावधान में, अहमदाबाद में आयोजित कार्यक्रम का उनको भी हिस्सा बनाना था और व्यंग्य यात्रा सम्मान से उनको भी सम्मानित किया जाना था. पर अपरिहार्य कारण से वे आ नहीं पाए।

अगले दिन मैं और निर्मिश ठाकर उनके घर गए, उनको सम्मानित किया , उनके साथ चाय पी , उनके चित्र खींचे और पुस्तकों का आदान प्रदान किया। उनका जाना अपूर्णीय क्षति है। 14 जनवरी 1938 को जन्मे विनोद भट्ट 45 से अधिक कृतियां लिखीं। उन्हें साहित्य अकादमी सहित अनेक सर्वोच्च सम्मानों से सम्मानित किया गया। उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com