Breaking News

वंदे मातरम राष्ट्रगीत ही नहीं, कांग्रेस पार्टी की आत्मा का स्वर है: अभय दुबे

Posted on: 02 Jan 2019 00:12 by Amit Shukla
वंदे मातरम राष्ट्रगीत ही नहीं, कांग्रेस पार्टी की आत्मा का स्वर है: अभय दुबे

भोपाल। प्रदेश कांग्रेस के मीडिया उपाध्यक्ष अभय दुबे ने कहा कि ‘‘वंदे मातरम’’ न सिर्फ राष्ट्रगीत है, अपितु कांग्रेस द्वारा लड़ी गई आजादी की लड़ाई का प्रतीक गीत भी है। मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 28 दिसम्बर 2018 को भोपाल स्थित प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में राष्ट्रगीत वंदे मातरम के उद्घोष के साथ कांग्रेस के 134 वें स्थापना दिवस का कार्यक्रम प्रारंभ किया था। वंदेमातरम कांग्रेस मुख्यालयों में आजादी के आंदोलन से लेकर आज तक गाया जाता है। दुबे ने कहा कि कांग्रेस के कई सेनानियों ने वंदेमातरम के उद्घोष के साथ अपने प्राणों को आजादी के आंदोलन में आहूत किया है। वर्ष 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में बूढ़ी गांधी कही जाने वाली स्वतंत्रता सेनानी मातंगिनी हाजरा ने 5 हजार कार्यकर्ताओं के साथ पश्चिम बंगाल के तामलुक में वंदे मातरम गाते हुए अपने सीने पर अंग्रेजों की 3 गोलियाँ खाई। प्राण रहते तक उन्होंने अपने मुख से वंदे मातरम और हाथों से तिरंगा नहीं छोड़ा। मध्यप्रदेश में कमलनाथ जी द्वारा किसानों और जनहित में लिए जा रहे निर्णयों से भाजपा व्यथित है, इसलिए वंदे मातरम को लेकर वह भ्रामक प्रचार कर रही है। राष्ट्रगीत और राष्ट्रगान पर भाजपा को राजनीति नहीं करनी चाहिए।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com