Breaking News

मुजफ्फरपुर के बाद देवरिया में बालिका गृह से आजाद कराई 24 लड़कियां

Posted on: 06 Aug 2018 10:12 by Ravindra Singh Rana
मुजफ्फरपुर के बाद देवरिया में बालिका गृह से आजाद कराई 24 लड़कियां

Uttarpradesh: Many girls rescued from private girls shelter home in deoria

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बालिका गृह काण्ड पर बड़ी कार्रवाही की है। देवरिया के DOP को निलंबित कर दिया गया है, साथ ही दवरिया डीएम को हटाने के निर्देश जारी कर दी है।

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम के जैसा ही उत्तरप्रदेश के देवरिया के नारी संरक्षण गृह में भी देह व्यापार कराए जाने का पर्दाफाश हुआ है। यह पर एक निजी नारी संरक्षण गृह पर छापेमारी कर रविवार को 24 लड़कियों को छुड़ाया गया है। साथ ही 18 बालिकाओं के बारे में पता नही चल पाया है। बालिका गृह की संचालिका गिरजा त्रिपाठी और उसके पति को अरेस्ट कर लिया है।

https://twitter.com/ANINewsUP/status/1026214384564162560

बालिका गृह के नाम पर देह व्यापार किया जाता था। शहर के स्टेशन रोड स्थित मां विन्ध्वासिनी बालिका गृह के नाम से स्थित है। पुलिस द्वारा जिन लड़कियों को आजाद कराया गया है। उन्होंने कई बड़े और बेहद चौकाने वाले खुलासे किये है। पीड़ित बालिकाओं ने बताया की उनसे झाडू़-पोछा और बर्तन साफ करने का काम कराया जाता था।

छापेमारी की गई बालिका गृह में अनियमितता को लेकर सरकार सीबीआई जांच करा रही थी, इसे सरकार की और से पैसा मिलना बंद हो गया, लेकिन संस्था की संचालिका की और से जबरदस्ती इस चला रही थी।

एसपी रोहन पी कनय के मुताबिक बालिका गृह से किसी तरह भाग कर एक बच्ची ने महिला थाने पहुंची, उसके बाद बच्ची ने अपनी आप बीती जाहिर की गई, जिसके बाद पुलिस बल भेजकर बालिका गृह पर छापेमारी करवाई के दौरान 42 लड़कियों में से 24 लड़कियों क़ो आजाद कराया, शेष 18 बच्चियों की तलाश जारी है, संस्था की संचालक, उसके पति और बेटी क़ो गिरफ्तार कर लिया गया है।

लड़की का कहना था की एक दीदी हैं उन्हें बड़ी मैम रात को कहीं भेजती थीं, कभी लाल गाड़ी तो कभी काली गाड़ी उनको ले जाने आती थी, जब दीदी सुबह में आती थीं तो सिर्फ रोती थीं, कुछ भी पूछने पर बताती नहीं थीं. 15 साल बड़ी जो लड़कियां थीं उन्हे हर रोज कहीं भेजा जाता था और अगली सुबह वो रोते हुए वापस आती थीं, हम लोंगो से झाड़ू पोछा करवाया जाता था।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com