ये कैसी परंपरा, धूम धाम से होती है मरे हुए बच्चों की शादी

0
40
wedding

नई दिल्ली: बच्चों की शादी के लिए माता-पिता खूब तैयारियां करते है। अपने बच्चों शादी यादगार बनाने के लिए हर संभव कोशिश करते है। शादियों में कई तरह के रीति-रिवाज होते है। कई अजीओगरीब रीति-रिवाजों के बारे में हमने भी सुना होगा लेकिन क्या आपने कभी ये सूना है कि कोई मरे हुए लोगों की शादी कराता है। शायद नहीं, तो आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे है।

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में मरे हुए लोगों की शादी कराई जाती है। इसे यहां एक परंपरा के तौर पर लिया जाता है। नटबाजी समाज वर्षों पुरानी परम्पराओं को आज भी बखूबी निभा रहा है। नटबाजी समाज में सिर्फ जिंदा ही नहीं बल्कि मर चुके बच्चों की शादी भी बेहद धूमधाम से करने की अनोखी परम्परा है।

दरअसल, यहां परंपरा है कि यदि कोई बच्चा बचपन में ही मर जाता है तो बालिग़ होने पर उनकी शादी कराई जाती है। यहां मृत दूल्हे के लिए मृत कन्या की तलाश की जाती है। इस दौरान बैंड-बाजे के साथ बारात मृत कन्या पक्ष के दरवाजे पर आती है और शादी की सभी रस्में भी पूरे रीति-रिवाज के साथ संपन्न कराई जाती हैं।

इतना ही नहीं कन्या पक्ष वर पक्ष को दहेज़ देता है। मंडप में दूल्हा-दुल्हन की जगह गुड्डा-गुडिय़ा रखे जाते हैं। यहां मान्यता है कि ऐसा करने से उनकी मृत संतान भी अविवाहित नहीं रहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here