उन्नाव रेप केस : विधायक सेंगर से जेल में मिलने वालों की कुंडली खंगालेगी CBI, मांगी सूची

उन्नाव रेप केस मामले में पीड़िता के साथ हुए एक्सीडेंट को लेकर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने उन लोगों की भी सूची मंगाई है जो उत्तर प्रदेश की सीतापुर जेल में बंद विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से पिछ्ले कुछ महीनों में मुलाकात की है।

0
66

लखनऊ। उन्नाव रेप केस मामले में पीड़िता के साथ हुए एक्सीडेंट को लेकर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मामला दर्ज कर लिया है और बुधवार से अपनी जांच शुरू कर दी है। इसके अलावा सीबीआई ने उन लोगों की भी सूची मंगाई है जो उत्तर प्रदेश की सीतापुर जेल में बंद विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से पिछ्ले कुछ महीनों में मुलाकात की है। बताया जा रहा है कि इन लोगों से सीबीअर्द द्वारा पूछताछ की जाएगी।

गौरतलब है कि रेप पीड़िता का रविवार को रोड़ एक्सिडेंट हो गया था। इस हादसे में पीड़िता गंभीर रूप से घायल हो गई थी, वहीं उसकी चाची और मौसी की मौत हो गई है। जिसकेे बाद मंगलवार को यह केस सीबीआई को सौंपा गया था। बता दे कि पीड़िता का आरोप है कि बीजेपी विधायक सेंगर ने रेप किया था। यह घटना साल 2017 की है। वहीं पीड़िता का एक्सीडेंट होने के बाद काफी राजनीतिक बवाल मचा हुआ है। जिसके चलते विपक्षी दल योगी सरकार पर उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था को लेकर निशाना साध रहे हैं।

कांग्रेस महासचिवम और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘उन्नाव बलात्कार मामला व पीड़िता के पूरे परिवार को प्रताड़ित करना सत्ता के संरक्षण के बिना संभव नहीं. अब परतें खुल रही हैं व भाजपा नेताओं के नाम और पुलिस की लीपापोती सामने आ रही है। कांग्रेस न्याय के लिए प्रतिबद्ध है। ये लड़ाई हम मजबूती से लड़ेंगे।‘

वहीं समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा, ‘बलात्कार की पीड़िता की हत्या का प्रयास प्रतीत होने वाली इस तथाकथित दुर्घटना से देश-प्रदेश की हर एक मां, बहू, बेटी, बहन गहरे आघात में है। महिलाओं में इस घटना को लेकर जो रोष-आक्रोश है वो दोहरे चरित्रवाली सत्ता को बहुत मंहगा पड़ेगा. शर्मनाक। निंदनीय।’

इधर बीजेपी का कहना है कि आरोपी विधायक को पहले ही पार्टी के निलंबित किया जा चुका है। यूपी बीजेपी के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने बताया, ‘सेंगर पहले से ही पार्टी से निलंबित चल रहे हैं। मेरी पूर्व अध्यक्ष से भी बात हुई है, पार्टी कुलदीप सेंगर को कभी बचाने के पक्ष में नहीं रही है। पार्टी पहले ही कुलदीप सेंगर को निलंबित कर चुकी है। सरकार निष्पक्ष जांच के पक्ष में है, इसलिए सीबीआई को जांच सौंपी गई है।’

बता दे कि पीड़िता के रोड़ एक्सिडेंट को लेकर विधायक कुलदीप सेंगर, उनके भाई मनोज सेंगर और आठ अन्य के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here