उज्जैन : महिदपुर से भाजपा के विधायक ने महिला कांग्रेस अध्यक्ष को अपनी पार्टी में कराया शामिल

विधायक बहादुर सिंह चौहान के द्वारा महिदपुर के वार्ड क्रमांक 17 से जनपद का चुनाव जीती रीता बडगुजर्र को कांग्रेस पार्टी छुड़ाकर भारतीय जनता पार्टी में शामिल कराया गया है। पिछले दिनों स्वाति सिंह को हटाकर,रीता बडगुजर्र को जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष बनाया गया था। रीता बडगुजर्र ने फोन पर हुई बातचीत में बताया कि चुनाव के दौरान,उनकी किसी भी कांग्रेसी नेता के द्वारा कोई सहायता नहीं की गई ।

उज्जैन (Ujjain) की महिदपुर (Mahidpur) विधानसभा से विधायक बहादुर सिंह चौहान के द्वारा शहर कांग्रेस पार्टी को बड़ा आधात दिया गया है। विधायक बहादुर सिंह चौहान के द्वारा महिदपुर के वार्ड क्रमांक 17 से जनपद का चुनाव जीती रीता बडगुजर्र को कांग्रेस पार्टी छुड़ाकर भारतीय जनता पार्टी में शामिल कराया गया है। रीता बडगुजर्र के कांग्रेस पार्टी छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने की खबर लगते ही शहर कांग्रेस और महिला कांग्रेस के साथ ही शहर भर की राजनीती में हड़कंप मच गया। सूत्रों के अनुसार रीता बडगुजर्र द्वारा फोन पर हुई बातचित में इस खबर की पुष्टि की गई है।

Also Read-पेट्रोल-डीज़ल के भाव : 55 दिनों से लगातार स्थिर हैं दाम, नहीं हुए कोई बदलाव

पिछले दिनों स्वाति सिंह को हटाकर, रीता बडगुजर्र को जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष बनाया गया था

विधायक बहादुर सिंह चौहान द्वारा शहर कांग्रेस पार्टी को दिया गया यह झटका बहुत ही गहरा है, जिसकी चर्चा शहर भर की राजनैतिक गलियों में हो रही है। गौरतलब है कि कांग्रेस नेत्री नूरी खान और विधायक महेश परमार की सहमति के बाद पिछले दिनों स्वाति सिंह को हटाकर,रीता बडगुजर्र को जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष बनाया गया था। इसके बाद रीता बडगुजर्र का इस तरह से अचानक भाजपा में शामिल होना, संदेह का विषय है, जिसकी राजनैतिक गलिहारों में अलग-अलग कयास लगाए जा रहे हैं ।

Also Read-मध्य प्रदेश : मतगणना को लेकर सक्रिय पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, गड़बड़ी की शिकायत पर हेलीकॉप्टर से पहुंचेंगे तुरंत

रीता बडगुजर्र ने बताई भाजपा में शामिल होने की वजह

महिला कांग्रेस पद छोड़कर भाजपा में शामिल हुई रीता बडगुजर्र ने फोन पर हुई बातचीत में बताया कि चुनाव के दौरान, उनकी किसी भी कांग्रेसी नेता के द्वारा कोई सहायता नहीं की गई । इसके विपरीत उनके द्वारा चुनाव के दौरान मुझे हरवाने की कोशिश की गई । उन्होंने बताया की उक्त चुनाव उन्होंने अपने दमपर और अपने व्यवहार से जीता है । रीता बडगुजर्र ने आगे बताया कि इसके बाद उन्होंने व्यथित होकर कांग्रेस पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल होने का फैसला लिया ।