उद्धव ठाकरे बोले, अमित शाह से मिल गया है दिल | Uddhav Thackeray says Amit Shah has got heart

0
62
Amit-shah

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह गांधीनगर लोकसभा सीट से पहली बार चुनाव लड़ेंगे। इस सीट पर अब तक पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी चुनाव लड़ते हुए हैं। हालांकि इस बार उनका टिकट काट दिया गया है।

इसी के चलते अमित शाह 30 मार्च को गांधीनगर लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल करेंगे। इसके बाद वह एक रोड शो भी करेंगे, जिसमें केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और शिरोमणि अकाली दल सुप्रीमो प्रकाश सिंह बादल और एलजेपी के संस्थापक रामविलास पासवान जैसे वरिष्ठ नेता मौजूद रहेंगे।

नामांकन भरने से पहले एक सभा का आयोजन किया। इसमें शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि कुछ लोग भाजपा और शिवसेना में मनमुटाव को लेकर कुछ लोग खुश थे, लेकिन दोनों में किसी भी बात को लेकर मनमुटाव नहीं है। अमित शाह से मेरा दिल मिल गया है। उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि उनका दिल मिले या न मिले, हाथ जरूर मिलना चाहिए। इस दौरान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि एक ओर जहां पीएम नरेंद्र मोदी की अगुवाई में देश आगे बढ़ रहा है। वहीं दूसरी ओर अमित शाह के नेतृत्व में भाजपा दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बन गई है। उन्होंने कहा कि गांधीनगर सीट से अमित शाह की जीत सुनिश्चित है।

Read More : एक सीट पर 185 उम्मीदवार, अब बैलेट पेपर से होंगे चुनाव | 185 candidates in one seat, will now be elected from ballot paper

भाजपा के चाणक्य कहे जाने वाले अध्यक्ष अमित शाह पहली बार लोकसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमाएंगे। गुजरात के गांधीनगर से पार्टी के पितृपुरूष लालकृष्ण आडवाणी का टिकट काटकर शाह को दिया गया हैं। भाजपा की इस पारंपरिक सीट पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और आडवाणी कई बार चुनाव जीत चुके हैं। पार्टी के हशिए पर चल रहे वरिष्ठ नेता आडवाणी का टिकट कटने से कई हैरान है, वे गांधीनगर लोकसभा सीट से 6 बार सांसद रह चुके हैं।

Read More : 1952 से अबतक ऐसा रहा लोकसभा चुनाव | History of Loksabha Election

इतना ही नहीं, पार्टी के इस फैसले से आडवाणी समर्थकों में नाराजगी भी छाई हुई है। वरिष्ठ नेता का टिकट कटने के बाद पार्टी में अंदर ही अंदर विरोध के स्वर उठ रहे हैं। 91 वर्षीय आडवाणी गांधीनगर सीट पर 6 बार सांसद रह चुके हैं। हालांकि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद आडवाणी और उनके खेमे के नेताओं ने सक्रियता खत्म कर दी थी। इतना ही नहीं, प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष शाह पर वरिष्ठ नेताओं की अनदेखी के आरोप लगते रहते हैं।

Read More : राजीव दीक्षित की संदिग्ध मौत की जांच के लिए नरेंद्र मोदी ने दिए आदेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here