Breaking News

दो प्रख्यात सामाजिक उद्यमी राकेश जैन और विनय दलाल सम्मानित

Posted on: 11 Mar 2019 20:23 by Rakesh Saini
दो प्रख्यात सामाजिक उद्यमी राकेश जैन और विनय दलाल सम्मानित

दोनों उद्यमियों ने कंप्यूटर एप्लिकेशंस के माध्यम से समाज हित के लिए भी कार्य किया है। आईवे ने विभिन्न उद्यमियोंआी, तकनीकी विशेषज्ञ, शोधार्थियों एवं जानकारों को मिलाकर एक कम्यूनिटी का निर्माण किया है। ये विशेषज्ञ विभिन्न विद्यार्थियों को नवीन IT तकनीकों के माध्यम से समाज के हित में एप्लीकेशन बनाने के लिए नि:शुल्क मार्गदर्शन करते हैं।

यूनाइटेड नेशंस के मुताबिक़ यदि समाज में सुख एवं आनंद की वृद्धि करनी है तो छः कारकों को बढ़ाने वाली IT एप्लिकेशंस बनानी पड़ेगी।
१) आय
२) स्वास्थ्य
३) समाज कल्याण
४) परस्पर विश्वास
३) समाज कल्याण
४) स्वतंत्रता
५)परस्पर विश्वास
६) औदार्य

सम्मान समारोह का आयोजन नरसी मोंजी इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट साइंस के ऑडिटोरियम में संस्था के टेक्नोलॉजी डे कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित किया गया। कार्यक्रम के आरम्भ में संस्था के निदेशक डॉक्टर प्रदीप चाॅंदे ने कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉक्टर नरेंद्र गोरे एवं अन्य अतिथियों का परिचय दिया तथा समाज कल्याण में टेक्नोलॉजी के महत्व पर प्रकाश डाला।

राकेश जैन ने आहार एप्लीकेशन का निर्माण किया है इसके माध्यम से होटलों, शादियों और पार्टियों इत्यादि में बचा हुआ भोजन ज़रूरतमंद और ग़रीब लोगों के बीच में वितरित किया जाता है। इस एप्लीकेशन के माध्यम से अब तक 3 लाख से अधिक लोगों को खाना खिलाया गया है। श्री राकेश जैन इंफोक्रेट्स संस्था के निदेशक हैं। उन्होनें आहार के अलावा विद्यादान, सिटीज़न कॉप जैसी एप्लीकेशंस भी बनायी है जिनका उपयोग प्रशासनिक एवं सामाजिक संस्थाओं द्वारा किया जा रहा है।

श्री विनय दलाल ने मेरा हुनर नामक अप्लीकेशन बनायी है जिसका उपयोग बढ़ई, कारीगर, ड्राइवरों आदि द्वारा रोज़गार प्रति प्राप्ति के लिए किया जाता है। इस एप्लीकेशन का प्रयोग उत्तरप्रदेश,झारखंड एवं हिमाचलप्रदेश आदि राज्यों में किया जा रहा है।

श्री राकेश जैन एवं श्री विनायक दलाल ने अपने अनुभवों और और उद्यमिता के बारे में उपस्थित जन समुदाय से विस्तार में चर्चा की। उन्होंने सामाजिक बदलाव के लिए और सामाजिक कल्याण में वृद्धि के लिए IT एप्लिकेशंस की उपयोगिता पर प्रकाश डाला।

इस अवसर पर प्रख्यात आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एवं मशीन लर्निंग के विद्वान श्री पराग कुलकर्णी द्वारा भी उद्बोधन किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं आईवे के डॉ. नरेन्द्र गोरे ने संस्था द्वारा इंदौर एवं त्रिची के विद्यार्थियों के साथ विकसित किए गए सबका ड्राईवर ऐप के बारे में बताया। इस ऐप माध्यम से सीनियर सिटिजंस के लिए अोला या ऊबेर की तरह राइड्स बुक की जा सकती है। ये कार व्हीलचेयर तथा ऑक्सीजन सिलेंडर इत्यादि विकल्पों से सुसज्जित हो सकती है। इससे सीनियर सिटिजंस और पेशेंट्स को उनके चाहे हुए गंतव्य अथवा हॉस्पिटल तक पहुँचाने में मदद मिल सकती है ।

संस्था के ही श्री यशवंत महेशराम ने विद्यार्थियों द्वारा निर्मित स्मार्ट हेल्थ एप्लीकेशन के बारे में बदला है जिसके द्वारा दूर दराज़ गांवों में स्थित व्यक्ति शहरों की डॉक्टरों से सलाह मशविरा कर सकते हैं।

विभिन्न संस्थानों के छात्रों ने इस कार्यक्रम में उपस्थित थे।उन्होंने IT के माध्यम से सामाजिक उत्थान की पहल को समझा और उसमें भागीदारी की प्रेरणा ली।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com