भोपाल। मध्य प्रदेश में प्रशासन और सरकार की दृष्टि से आज बड़ा दिन है। मंत्रालय में आज बैठकों का सिलसिला चल रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज बैक टू बैक 10 बैठकें करने वाले हैं। मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) आज मंत्रालय में अहम बैठक कर रहे हैं। इस बैठक से पहले सीएम शिवराज ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार नए साल पर नई सौगात देने जा रही है। कल का दिन सुनहरे अक्षरों में दर्ज होगा।

आज कैबिनेट की बैठक में कई प्रस्तावों पर फैसला होने की संभावना है। इससे में ग्रामीण जनता के साथ अनुसूचित जनजाति विद्यार्थियों और मेडिकल छात्रों को साधने की कोशिश की जाएगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हो रही इस कैबिनेट बैठक (cabinet meeting) में 20 प्रस्तावों पर चर्चा की जाएगी और निर्णय लिया जाएगा।

बैठक के पहले CM शिवराज ने कहा, मैं टीकमगढ़ गया था तो लोगों ने बताया कि घर मे रहने के लिए जगह नहीं है। तब हमने कल्पना की थी कि ऐसी योजना लागू करेंगे जिससे लोगों का अपना भूखंड हो। कल टीकमगढ़ जिले के 10 हज़ार 500 लोगों को 120 करोड़ की लागत के भूखंड वितरित करेंगे। यह पट्टा पति पत्नी के नाम पर होगा। कोई प्रीमियम नहीं लगेगा। भूखंड का मॉडल साइज (Plot Model Size) 600 वर्ग फुट और स्थानुसार रहेगा।

Also Read – कैप्टन शिवा ने रचा इतिहास, सबसे ऊंचे युद्ध के मैदान में हुई तैनाती, मुश्किल इलाके से करेगी देश की रक्षा

CM शिवराज ने कहा, मप्र सरकार गरीबों के लिए भूखंड उपलब्ध कराएगी सरकार, कल से मुख्यमंत्री आवासीय भू अधिकार योजना का टीकमगढ़ से शुभारंभ होगा। प्रदेश में निर्विरोध निर्वाचन वाली ग्राम पंचायतों को पुरस्कृत (Awarded to Panchayats) करने के लिए राशि बढ़ाने और नए पुरस्कार के प्रविधान के कार्योत्तर अनुमोदन का प्रस्ताव कैबिनेट मे रखा जाएगा।

क्या हो सकते हैं फैसले
मेडिकल कालेज इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और रीवा में पीजी सीट बढ़ाने के लिए मिल सकती है प्रशासकीय स्वीकृति, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना 2.0 क्रियान्वयन की स्वीकृति एवं योजना की निरंतरता पर भी चर्चा हो सकती है, अनुसूचित जनजाति विद्यार्थियों की संभाग स्तर पर आकांक्षी कोचिंग योजना पर होगी चर्चा, शौर्यदल योजना की गतिविधियों में हुए व्यय की कार्योत्तर स्वीकृति एवं निरंतरता की स्वीकृति।

आगामी कुछ समय में प्रदेश में कई बड़े कार्यक्रम (many big events) भी होने हैं। आंदोलनों के दौर में सरकार और भाजपा दोनों की कोशिश है कि कुछ ऐसे फैसले किए जाएं जिससे इनकी भरपाई हो सके। आज की कैबिनेट बैठक के साथ अन्य बैठकों में कुछ ऐसा ही नजर आने वाला है।