नाथद्वारा: यहां श्रीनाथ जी को लगा हजारों किलो चावल का भोग

0
44
nathdwara_annakut

नाथद्वारा में श्रीनाथजी प्रभु की हवेली मंदिर में दीपावली पर्व बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। इस बार पांच दिवसीय उत्सव और आने वाले वैष्णव दर्शनार्थियों की व्यवस्था की पूरी व्यवस्था है। दिवाली के अगले दिन शुक्लपक्ष प्रतिपदा को यहां अन्नकूट महोत्सव आयोजित होता है।

Image result for नाथद्वारा अन्नकूट
via

नाथद्वारा अन्नकूट में करीब 20 क्विंटल पकाए गए चावल का पर्वत बनाया जाता है और उसका श्रीनाथजी को भोग लगाया जाता है। 56 तरह के व्यंजन तैयार किए जाते हैं। इसके अलावा विभिन्न प्रकार के लड्डू, खीर,मोहनथाल, श्रीखंड, राबड़ी, हलवा, अनेक तरह के पापड़ आदि अन्नकूट महोत्सव को देखने के लिए दूर-दूर से पर्यटक भी यहां बड़ी संख्या में आते हैं। नाथद्वारा का अन्नकूट महोत्सव विश्व प्रसिद्ध है। यहां अन्नकूट की परंपरा सैकड़ों सालों से चली आ रही है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार अन्नकूट की परंपरा ब्रज से शुरू होती है। पहले ब्रजवासी इंद्र की पूजा करते थे। लेकिन भगवान कृष्ण के आदेश से गोवर्धन की पूजा करने लगे। नाराज इंद्र ने घनघोर वर्षा करके ब्रज में हाहाकार मचा दिया। तब कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को उठाकर उसके निचे ब्रजवासियों की रक्षा की थी इसी समय वहा सबके लिए भोजन बना जिससे 56 भोग की परंपरा शुरू हुई और इस दिन अन्नकूट की प्रथा शुरू हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here