Breaking News

ऐसा रहा मंदसौर में किसान आंदोलन का पहला दिन

Posted on: 01 Jun 2018 18:25 by Lokandra sharma
ऐसा रहा मंदसौर में किसान आंदोलन का पहला दिन

मन्दसौर नगर और जिले में किसान आंदोलन का पहला दिन सामान्य और शांति से गुजरा। आम दिनों की तरह सब्जियां , दूध , फ़ल , किराना सामान सभी के लिए उपलब्ध रहा। ग्रामीण क्षेत्रों से नगरिय इलाकों में दुध विक्रेताओं ने रोज़ अनुसार वितरण किया।  होलसेल सब्जी मंडी और फुटकर बिक्री जारी रही। ग्रामीणों की आवाजाही कम रही। आसपास के ग्रामीण और किसान लगभग नहीं आये। दो दिनों की बैंक हड़ताल के बाद भी कामकाज व्यापारियों का ही रहा , मन्दसौर के दोनों बस स्टैंड पर यात्री बसें तो उपलब्ध थी पर सवारियों की कमी देखी गई।

प्रमुख कृषि उपज मंडी मन्दसौर में काम कम रहा। कोई100 – 150 किसान ही अपनी उपज लाये। जबकि औसतन 2000 से अधिक किसान मंडी में आते हैं। आज पहले दिन 800 – 1000 बोरी लहसुन , गेंहू , सोयाबीन , चना आदि फ़सल विक्रय हेतु लाये , जबकि औसतन 25 से 40 हजार बोरी की आवक प्रतिदिन होती है।

यही हाल जिले की मंडियों दलौदा , सीतामऊ , पिपलियामंडी , शामगढ़ , भानपुरा का भी रहा। कम संख्या में किसान आये और उपज विक्रय कम हुआ। किसानों ने मंदिर में पूजा पाठ अभिषेक आदि किये। दिन भर मंडियों में व्यवस्था पूरी रखी गई। दिन भर आपस में परस्पर किसान आंदोलन की चर्चा रही । दिन सामान्य बीतने पर राहत जताई।

कांग्रेस नेताओं ने आगामी 6 जून को तय राहुल गांधी की जनसभा के लिए जिले भर में पहुंच बनाई। गतवर्ष पुलिस फायरिंग में मारे गए परिवार जन को मिले और राहुल गांधी की सभा में आमंत्रित किया। विधानसभा प्रभारी इछावर विधायक शैलेन्द्र पटेल ने जिला कांग्रेस में पार्टी नेताओं साथ रूपरेखा पर मंथन किया।

इधर भाजपा भी जनसंपर्क कार्यक्रम चलाए हुए है , विधायक , सांसद , जिले के पदाधिकारियों ने अपने नेटवर्क को निर्देश द्वारा सक्रिय किया हुआ है। जिले में और राजस्थान के सीमावर्ती क्षेत्र से जुड़े ग्रामीण इलाकों में पुलिस और प्रशासन की सरगर्मी बनी रही। प्रांतीय राजमार्ग पर भी सधन चेकिंग की गई।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com