Breaking News

पिछले चुनावी नतीजों से इस बार के चुनावी नतीजों में रहा यह बड़ा अंतर

Posted on: 15 May 2018 14:16 by Lokandra sharma
पिछले चुनावी नतीजों से इस बार के चुनावी नतीजों में रहा यह बड़ा अंतर

कर्नाटक का चुनावी परिणाम आ चूका है. सबसे ज़्यादा सीटें हासिल कर बीजेपी बड़ी पार्टी बन कर आई है. बीजेपी को 104 सीटों पर विजय मिली है. वहीं कांग्रेस को इस चुनाव में काफी नुकसान हुआ है, वे 78 सीटों पर ही सिमट कर रह गयी है. वहीं जेडीएस को ना फायदा हुआ है न नुकसान जेडीएस के 38 विधायक चुन कर आएं है. तथा अन्य दो निर्दलीय विधायकों को जीत हासिल हुई है. स्पष्ट है कि पूर्ण बहुमत किसी भी पार्टी को हासिल नहीं है, ऐसे देवगौड़ा की जेडीएस किंग मेकर पार्टी होगी. जैसा की पहले से आंकलन लगाया जा चुका था की जेडीएस और कांग्रेस मिलकर सरकार बना सकते हैं. ऐसे में यह देखना काफी दिलचस्प होगा की पिछले चुनाव और इस चुनाव में कितना अंतर रहा.

कर्नाटक की आबादी में 8 फीसदी का हिस्सा एक बड़ा समुदाय वोक्कालिगा समुदाय का है. यह समुदाय 48 विधानसभा सीटों पर अपना प्रभाव रखता है. पिछले चुनाव में यह कांग्रेस के साथ था मगर इस बार यह सिद्धारमैया से नाराज दिखे. कांग्रेस ने इस समुदाय के लगभग आधे वोंट इस चुनाव में खो दिए हैं. जनता दल(एस) अपने प्रभावक्षेत्र में वोक्कालिगा समुदाय का समर्थन हासिल करने में काफी हद तक सफल रही है.

वहीं अगर दलित प्रभावी क्षेत्रों की बात की जाए तो 38 सीटों पर बीजेपी को पहले की तुलना में इस बार काफी बढ़त देखने को मिली है. दलितों के बीच पछले चुनाव के मुकाबले बीजेपी काफी लोकप्रिय दिखी. हालांकि इन क्षेत्रों में बीजेपी और कांग्रेस को बराबर सीटें मिली है. कांग्रेस और जेडीएस को इन सीटों में नुकसान झेलना पड़ा है.

इस बार कर्नाटक के मुसलमानों ने भी बीजेपी के समर्थन में मतदान किया. बता दें कर्नाटक में 23 मुस्लिम बहुल सीटें हैं. 2013 में बीजेपी को 23 में से सिर्फ आठ सीटों पर जीत हासिल हुई थी लेकिन इस विधानसभा चुनाव में बीजेपी को दो सीटों का फायदा हुआ है.

वहीं सिद्धारमैया के प्रभाव क्षेत्र वाले 50 सीटों पर कांग्रेस पिछले चुनाव के मुकाबले भारी नुकसान झेलना पड़ा है. वहीं बीजेपी को जबरदस्त फायदा होता हुआ दिखाई दिया है. जेडीएस को भी जहां पिछले चुनाव में कोई सीट नहीं मिली थी उसे इस चुनाव में भी कुछ हाथ नहीं लगा है.

वहीं इस बार कर्नाटक विधानसभा चुनाव में पिछड़ा वर्ग ने बीजेपी के साथ खड़ा दिखा है. पिछड़ा वर्ग के प्रभाव वाले 24 सीटों पर भाजपा को करीब दो तिहाई सीटें पर समर्थन मिला है.

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com