Breaking News

जब मगरमच्छ की मौत पर पूरा गांव रोया

Posted on: 11 Jan 2019 15:40 by Ravi Alawa
जब मगरमच्छ की मौत पर पूरा गांव रोया

अब तक तो आपने कई अंतिम यात्रा देखी होगी. लेकिन आज हम आपको एक ऐसी अनोखी अनोखी अंतिम यात्रा के बताने जा रहे है. जिसके बारें में जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे.

जी हां, हम बात कर रहे है मगरमच्छ अंतिम यात्रा की. वही मगरमच्छ जिसे सबसे खतरनाक जानवरों में से एक माना जाता है. लेकिन छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले के मोहतरा गांव में एक मगरमच्छ पूरे गांव वालों के लिए किसी दोस्त से कम नहीं था.

Must Read: एक ऐसा मंदिर जिसका रक्षक है एक शाकाहारी मगरमच्छ

यहां इस मगरमच्छ को ‘गंगाराम’ के नाम पहचाना जाता था. लेकिन अब ‘गंगाराम’ इस दुनिया में नहीं है उसकी मौत हो गई है. ‘गंगाराम’ की मौत से इस गांव के सभी लोग बहुत दुखी हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि पिछले 100 साल से गंगाराम नाम का यह मगरमच्छ इस यहां रहने वालें हर इंसान का एक अच्छा दोस्त था.

Must Read:यहां बैंक लड़कियों को सिर्फ एक सेल्फी के बदले दे रहा मुंह मांगा लोन

इस गांव में एक तालाब था जहां ‘गंगाराम’ रहता था और उसी में सभी बच्चे भी नहाते थे. लेकिन ‘गंगाराम’ ने कभी भी किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया. इस बारे में गांव के सरपंच मोहन साहू का कहना है कि, ‘‘गांव के तालाब में पिछले करीब सौ साल से यह मगरमच्छ रह रहा था. लेकिन इसी महीने एक दिन गांव वालों ने ‘गंगाराम’ को तालाब में अचेत देखा तब उसे बाहर निकाला गया. बाहर निकालने के बाद पता चला कि ‘गंगाराम’ की मृत्यु हो गई है. बाद में इसकी सूचना वन विभाग को दी गई.

Must Read: पत्नी को बेडरूम में इस अवस्था में देख, पति ने किया ऐसा कि पहुंच गई अस्पताल

खबरों के मुताबिक गंगाराम पूर्ण विकसित नर मगरमच्छ था जिसकी उम्र करीब 130 साल थी. उसकी मौत स्वाभाविक हुई है. मगरमच्छ का वजन करीब 250 किलो बताया गया है. इस मगरमच्छ की लंबाई 3.40 मीटर थी. आज तक इस मगरमछ ने किसी को कोई भी नुकसान नहीं पहुंचाया था.

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com