पाकिस्तान के बलूचिस्तान में है देवी हिंगलाज का मुख्य मंदिर, मुस्लिम मानते हैं इसे नानी का हज | Balochistan is the main temple of Goddess Hinglaj, Muslims believe that it is Haji of Nani

0
50
Hinglaj mata ji temple pakistan

बीतें दिन यानि कल बुधवार को मां हिंगलाज जयंती थी । वैसे तो भारत में देवी हिंगलाज के अनेक मंदिर हैं, लेकिन मुख्य मंदिर पाकिस्तान(pakistan) के बलूचिस्तान में है। ये मंदिर हिंदू और मुस्लिम दोनों ही ही आस्था का केंद्र हैं। हिंदू इसे शक्तिपीठ मानते हैं और मुस्लिम संप्रदाय के लोग इसे नानी का हज कहते हैं।

must read प्रदेशभर में गणगौर की धूम, सज-धजकर पाती खेलने पहुंच रही है महिलाएं

मंदिर से जुड़ी विशेष बातें
51 शक्तिपीठ में से एक है हिंगलाज माता मंदिर हिंगलाज माता मन्दिर, पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रान्त के हिंगोल नदी के तट पर स्थित है। ये मंदिर मकरान रेगिस्तान के खेरथार पहाड़ियों की एक शृंखला के अंत में है। मंदिर एक छोटी प्राकृतिक गुफा में बना हुआ है। जहां एक मिट्टी की वेदी बनी हुई है। देवी की कोई मानव निर्मित छवि नहीं है। बल्कि एक छोटे आकार के शिला की हिंगलाज माता के प्रतिरूप के रूप में पूजा की जाती है।

यहां गिरा था देवी सती का सिर
जब देवी सती ने आत्मदाह किया तो भगवान शिव उनके शव को लेकर ब्रह्मांड में घूमने लगे। शिव के मोह को भंग करने के लिए भगवान विष्णु ने अपने चक्र से सती के देह के टुकड़े कर दिए। जहां-जहां सती के अंग गिरे, वो स्थान शक्तिपीठ कहलाए। मान्यता है कि हिंगलाज शक्तिपीठ में देवी सती का सिर गिरा था।

must read सुरमयी एवं धर्ममयी हुई ताप्ती नगरी

मुस्लिम भी करते हैं पूजा
पाकिस्तान के मुस्लिम भी हिंगलाज माता पर आस्था रखते हैं और मंदिर को सुरक्षा प्रदान करते हैं। वे इस मंदिर को नानी का मंदिर कहते है। एक प्राचीन परंपरा का पालन करते हुए स्थानीय मुस्लिम जनजातियां, तीर्थयात्रा में शामिल होती हैं और तीर्थयात्रा को नानी का हज कहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here