श्रीराम की नगरी में जुटे शिवसैनिक, रामलला के किए दर्शन

0
138
shivsena thakre

अयोध्या। लोकसभा चुनाव में मिली शानदार जीत के बाद भाजपा के हौसले बुलंद है, लेकिन भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने पार्टी की मुश्किलें बढ़ा दी है। केंद्र में मोदी सरकार बनते ही शिवसेना ने अयोध्या में राम मंदिन निर्माण का मुद्दा एक बार फिर जोरशोर से उठा दिया है। इसी बीच रविवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे अपनी पार्टी के 18 सांसदों के साथ अयोध्या पहुंचे हैं, जहां उन्होंने रामलला के दर्शन कर पूजा-अर्चना की। इस दौरान उनके साथ पाटी के वरिष्ठ नेता सहित सभी 18 सांसद मौजूद थे।

कार्यक्रम के मुताबिक उद्धव ठाकरे सुबह 11 बजे रामलला के दर्शन के लिए जाएंगे। उद्धव के दोबारा अयोध्या आने के इस कदम को राम मंदिर निर्माण की पहली सीढ़ी के तौर पर देखा जा रहा है। इससे पहले शिवसेना प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि नवंबर में जब उद्धव ठाकरे अयोध्या आए थे, तब उन्हांेने लोकसभा चुनाव में जीत के बाद अपने सभी सांसदों को के साथ रामलला के दशर्न करने की बात कही थी।

उन्होंने लोकसभा में मिली जीत को रामलला को समर्पित किया है। साथ ही उन्होंने बताया कि ठाकरे 11 बजे मीडिया को संबोधित भी करेंगे। गौरतलब है कि राउत ने पिछले दिनोें पीएम मोदी को लेकर कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी ही हमारे हमारे लिए सुप्रीम कोर्ट है। साथ ही उन्होने अयोध्या में राम मंदिर मामले पर कहा कि राम मंदिर निर्माण का शुभ समय आ गया हैै। राउत ने कहा कि केंद्र और उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार है, जिसके चलते अब मंदिर निर्माण में अधिक समय नहीं लगना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बार मंदिर बनके ही रहेगा। जनता से हम बार-बार मंदिर निर्माण के नाम पर वोट नहीं मांग सकते हैं।

इससे पहले हुई बैठक में विहिप व संघ के पदाधिकारियों के सामने संत समाज ने राम मंदिर निर्माण में हो रही देरी को नाराजगी जताई थी। एक बार फिर अयोध्या में बैठक कर साधु-संतों ने राम मंदिर निर्माण को लेकर अपनी मंशा जाहिर कर दी। बताया जा रहा है कि इस बैठक में गौरक्षा, धर्मांतरण, वर्तमान सामाजिक परिस्थिति, आतंकवाद सहित मठ-मंदिरों की सुरक्षा एवं विकास पर तो चर्चा होगी। साथ ही राममंदिर निर्माण का मुद्दा जोर-शोर से उठाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here