मालवा उत्सव के मंच पर मची कालबेलिया संस्कृति की धूम

0
26

इंदौर: शहर की संस्कृति को समृद्ध करने लोक कला को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य को लेकर आयोजित किया जा रहा मालवा उत्सव में तीसरे दिन रंगारंग नृत्य प्रस्तुतियां दी गई। मेले में देशभर के 450 से अधिक शिल्पकार अपने उत्कृष्ट कलाकृतियों को लेकर आए हैं।

WhatsApp Image 2018-05-04 at 23.30.20

शिल्पकार पत्थर ,लोहा, तांबा, मिट्टी से बने शिल्प प्रदर्शित कर रहे हैं जो लोगों को भी काफी पसंद आ रहे हैं। मेले के तीसरे दिन शुक्रवार को बालिका सुरक्षा व नारी सशक्तिकरण के विषय पर डॉक्टर रजनी भंडारी ने व्याख्यान दिया।

WhatsApp Image 2018-05-04 at 23.30.17
विभिन्न प्रदेशों की मोहक नृत्य प्रस्तुतियां
पहली प्रस्तुति मालवा के मटकी नृत्य की थी। रजवाड़ी ,केरवा नृत्य प्रस्तुतियों में कलाकारों के साथ दर्शक भी झूम उठे। तेलंगाना का ग़ुस्साडी, आदिवासी नृत्य नागोबा के साथी दीपावली दशहरे पर होने वाला यह नृत्य सभी को भाया।

WhatsApp Image 2018-05-04 at 23.30.16

इसके साथ ही आसाम का बिहू, नृत्य राजस्थान का कालबेलिया ,बैगा जनजाति का नृत्य ,गुजरात का राठवा आदि नृत्य प्रस्तुतियों ने मेले में रंग भर दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here