लोकसभा चुनाव में हार के डर से छापामार कार्रवाई की – कमलनाथ/ The Guerrillan Action due to Fear of Losing in Lok Sabha Elections – C.M. Kamal Nath

0
38

भोपाल – मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग की छापेमारी की कार्यवाही जारी और विभाग ने मुख्यमंत्री के करीबियों के लगभग 50 ठिकानों पर कार्यवाही की है। जिस सीएम कमलनाथ ने बड़ा बयान दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आयकर छापों की सारी स्थिति अभी स्पष्ट नहीं हुई है। सारी स्थिति स्पष्ट होने पर ही इस पर कुछ कहना उचित होगा। लेकिन पूरा देश जानता है कि संवैधानिक संस्थाओ का किस तरह व किन लोगों के खलिाफ एवं कैसे इस्तेमाल ये लोग पिछले 5 वर्षों में करते आये है। वे इनका उपयोग कर डराने का काम करते है। जब इनके पास विकास पर , अपने काम पर कुछ कहने को , बोलने को नहीं बचता है तो ये विरोधियों के खलिाफ इस तरह के हथकंडे अपनाते है।

उन्हाने आागे कहा कि जब आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा को अपनी हार सामने नजर आने लगी है तो इस तरह की कार्यवाही जानबूझकर चुनाव में लाभ लेने के लिये की जाने लगी है। पिछले विधानसभा चुनाव में भी इन्होंने इसी तरह के सभी हथकंडे अपनाये थे। कई राजनैतिक दल व कई राज्य पिछले 5 वर्ष में इनके द्वारा अपनाये गये हथकंडो के गवाह है। हम भी इसके लिये तैयार थे। हर चीज की निष्पक्ष जाँच हो।इस तरह के हथकंडो से हमें कोई फर्क नहीं पड़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि इन घटनाओं से विकास के पथ पर हमारे कदम रुकेंगे नहीं, डिगेंगे नहीं , हम डरेंगे नहीं अपितु और तेजी से विकास के पथ पर हम अग्रसर होंगे। प्रदेश की जनता सब सच्चाई जानती है। आगामी लोकसभा चुनाव में प्रदेश की जनता इन हरकतों का मुँहतोड़ जवाब देगी।

गौरतलब है कि आयकर विभाग द्वारा मुख्यमंत्री के भांजे रातुल पुरी, निजी सचव और पूर्व पुिलस अधिकार प्रवीण कक्कड़, सलाहकार रहे राजन्द्र कुमार मिगलानी और भोपाल मे प्रतीक जाषी और अष्विनी शर्मा के लगभग 50 ठिकानों पर छापेमार की कार्यवाही की है।

अधिक खबरें पढ़े –

एसएसपी मिश्र ने सीअरपीएफ के जवानों ने दिया अपना नंबर, कहा आवश्यकता होने पर तत्काल सूचित करें/ Said SSP Mishra gave CRPF jawans their number, inform them immediately if required.

सीएम के सचिव के ठिकानों पर छापेमारी के दौरान सीआरपीएफ और एमपी पुलिस में हुआ विवाद/During the raid on the Chief Minister ‘s secretary’s house dispute arising in the CRPF and MP police

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here