Breaking News

रूस से भारत के लिए आयी बड़ी चौंकाने वाली खबर, सामने आये सर्वे के नतीजे, जिसे देख पूरी दुनिया रह गयी दंग

Posted on: 29 Jun 2018 07:18 by Lokandra sharma
रूस से भारत के लिए आयी बड़ी चौंकाने वाली खबर, सामने आये सर्वे के नतीजे, जिसे देख पूरी दुनिया रह गयी दंग

नई दिल्ली : रूस भारत का एक सबसे करीबी दोस्त में से एक है. हर मुसीबत और युद्ध हालात में रूस ने भारत की मदद की है. आज भी दुश्मन देशों के छक्के छुड़ाने के लिए रूस अपनी उच्च तकनीक के हथियार भारत को देता रहता है. ऐसे में भारत और रूस की दोस्ती पर शक करना या उस पर सवाल खड़ा करने का कोई सवाल ही नहीं उठता. फिर भी इस बीच रूस के करीबी के 5 देशों को लेकर सर्वे किया गया जिसमे भारत को लेकर चौंकाने वाली बात सामने आयी.

अभी मिल रही ताज़ा खबर के मुताबिक अभी हाल के ही दिनों पीएम मोदी और ब्लादिमीर पुतिन के बीच जिस तरीके से मुलाकात हुई है उससे दोनों देशों के बीच रिश्तों में मिठास आई है तमाम विरोधी देशों की नींद उड़ी हुई है. यही नहीं इन दोनों देशों के बीच की दोस्ती को लेकर जब रूस की एक संस्था ने पोल कराए तो जो नतीजे सामने आये वो हैरान कर देने वाले थे.

कई राजनितिक जानकार भारत और रूस के मौजूदा संबंधों में ठहराव की बात करते हैं. कहा जाता है कि अब इनमें पहले जैसी बात नहीं रही लेकिन अभी ताज़ा ताज़ा सर्वे में बड़ी चौंकाने वाली बात सामने आयी कि भारत आज भी रूस के चोटी के ‘टॉप पांच’ दोस्तों में शामिल है. यानी कि भारत आज बह रूस के सबसे पुराने और मज़बूत संबंधों वाले 5 देशों की सूचि में शामिल है.

NBT के मुताबिक रूस की एक अकेली गैर-सरकारी चुनावकर्ता संस्था ‘लवादा सेंटर’ ने एक पोल कराया जिसमें रूस के टॉप-5 करीबी देशों के बारे में पूछा गया. बता दें कि यह संस्था अपने पोल को लेकर काफी फेमस है. इसके द्वारा किये गये नये सर्वे में सामने आया है कि भारत अब भी रूस के सबसे भरोसेमंद देशों शामिल है.

इसके साथ ही यहाँ पाकिस्तान को ज़बरदस्त मुँह की खाने को मिली है. रूस के पाकिस्तान के करीब जाने का पोल में इसका भी जवाब दिया गया है। इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान अभी रूसी चेतना के करीब नहीं पहुंचा है. रूस की एकमात्र गैर-सरकारी चुनावकर्ता संस्था ‘लवादा सेंटर’ ने यह पोल किया था। लवादा सेंटर को क्रेमलिन (रूसी संसद) ने 2016 में ‘विदेशी एजेंट’ करार दिया था। यह संस्था अपने पोल के लिए जानी जाती है। इनका ताजा ओपिनियन पोल जो 2017 में किया गया था, अब सामने आया है। इसमें रूसी नागरिक बेलारूस को अपने देश का सबसे करीबी सहयोगी मानते हैं। इसके बाद चीन, कजाखिस्तान, सीरिया और भारत का नंबर आता है.

कुछ सप्ताह पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच हुई मुलाकात के अनौपचारिक मुलाकात के बाद भारत और रूस के ठंडे पड़े संबंधों को नया जीवन मिला। इस दौरान दोनों नेताओं ने काफी वक्त साथ बिताया और रणनीतिक चर्चा की थी. रूस के चोटी के दुश्मनों की बात करें तो पोल में अमेरिका का नाम सबसे ऊपर आया। इसमें भी अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का नाम चोटी पर रहा.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com