Breaking News

इंदौर की रंग पंचमी को विश्व धरोहर में शामिल करने का दावा

Posted on: 25 Mar 2019 11:58 by Pawan Yadav
इंदौर की रंग पंचमी को विश्व धरोहर में शामिल करने का दावा

इंदौर। सन 1927- 28 में पांच दिन तक रंग उत्सव मनाया जाता था। तब से लेकर अभी तक हिंदुस्तान में रंग पंचमी का त्यौहार सबसे बड़े पैमाने पर इंदौर में मनाया जाता है। इस आयोजन को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दिलाने के लिए विश्व धरोहर में शामिल करने का प्रयास किया जा रहा है। यूनेस्को की कल्चर हेरिटेज सूची में यह त्यौहार शामिल हो। इसकी तैयारी प्रशासन ने की है। सूत्रों के अनुसार पूरे विश्व में ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, पारंपरिक, धार्मिक इस रंगपंचमी यात्रा का नाम विश्व उपलब्धि सूची में शामिल करने के लिए भारतीय प्रबंध संस्थान, जिला प्रशासन और आम जनता ने प्रयास किया है। आज निकली गेर को यूनेस्को की सूची में शामिल करने के लिए खासतौर से पूरी गेर की रिकॉर्डिंग की गई है। जब गैर राजवाड़ा पर आती है और आसमान सतरंगी हो जाता है। लोग ढोलक की थाप पर नृत्य करते हैं। फाग यात्रा में महिलाएं और छोटे बच्चे भी शामिल होते हैं।

Indore Rajwada

बुजुर्ग भी एक दूसरे को रंग लगाते हैं। तो युवा भी उत्साह से सराबोर रहते हैं। इन सारी बातों को कैमरे में कैद किया जा रहा है। आज निकली गैर में पानी का उपयोग कम से कम हो। सूखे रंग से होली खेली जाए। पक्के कलर की बजाए गुलाल से होली खेले।

Indore Rajwada-

इस बात का भी लोगों ने ज्यादा से ज्यादा ध्यान रखा है । कहा जा रहा है कि इस आयोजन को कवरेज कराने के लिए देश भर के टीवी चैनल के प्रतिनिधि भी आए हैं। इस आयोजन को वाकई विश्व में उपलब्धि के रूप में माना जाए। इसके लिए आज सभी ने कोई प्रयासों में कमी नहीं रखी है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com