जिस मुद्दें पर शिवराज को सालों से कोसती रही कांग्रेस, उसे अब बताया सही

0
36
shivraj_singh_and_kamalnath

भोपाल : मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चैरान की सरकार के दौरान साल 2017 में हुए किसान आंदोलन के बाद से ही कांग्रेस किसानोंपर झूठे मुकदमे चलाने का आरोप मढ़ती रही है और विधानसभा चुनाव के दौरान भी इस मुद्दे को लेकर तत्कालीन सरकार को खूब कोसा था। लेकिन अब सत्ता मिलने के बाद कांग्रेस के सुर बदले हुए नजर आ रहे हैं और कमलनाथ सरकार किसानों पर दर्ज किए गए मुकदमों को सही बता रही है।

दरअसल, कांग्रेस के ही विधासयक हरदीप सिंह डंग की ओर से पूछे गए सवाल के लिखित जवाब में कहा है कि किसानों के उपर विधि सम्मत प्रक्रिया अनुसार ही मुकदमे दर्ज किए गए हैं। कांग्रेसी विधायक ने सवाल किया था कि मई-जून 2017 में कितने किसानों के खिलाफ राजनीतिक द्वेषतापूर्ण मुकदमें दर्ज किए गए हैं और राज्य सरकार की ओर से उन पर क्या कार्रवाई की गई है? जिस पर गृह मंत्री ने बताया है कि विधि सम्मत प्रक्रिया के तहत ही किसानों पर आपराधिक मुकदमें दर्ज किए गए हैं। हांलाकि बच्चन का ये भी कहना है कि किसानों पर दर्ज प्रकरणों की वापसी के लिए दिशा निर्देश भी जारी किए गए हैं।

बीजेपी ने बोला हमला

गृहमंत्री बच्चन के इस बयान के बाद नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कांग्रेस पर जोरदार हमला बोला है। भार्गव ने विधानसभा में कहा कि कांग्रेस ने किसान आंदोलन को लेकर झूठ, भ्रम का वातावरण बनाने की कोशिशें की थी और यह प्रचारित किया कि बीजेपी सरकार ने दमनपूर्वक कार्रवाई की है। लेकिन अब कांग्रेस की ओर से फैलाए गए झूठ की पोल आज खुल गई है। उन्होने कांग्रेस पर झूठ की राजनीति करने का भी आरोप लगाया है।

गौरतलब है कि इससे पहले फरवरी 2019 में गृह मंत्री ने विधायक हर्ष गहलोत के सवाल का जवाब देते हुए कहा था कि पुलिस द्वारा जून 2017 को महू-नीमच हाइवे पर फायरिंग स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर के तहत आत्मरक्षा के लिए की गई थी। जिसके बाद बीजेपी ने इस मुद्दे पर कांग्रेस को जमकर आड़े हाथों लिया था। इधर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने भी गृह मंत्री पर सवालिया निशान खड़े कर दिए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here