Breaking News

सात बैंकों की हालत खराब, आपका अकाउंट तो इन बैंकों में नहीं है?

Posted on: 26 Jun 2018 13:03 by Praveen Rathore
सात बैंकों की हालत खराब, आपका अकाउंट तो इन बैंकों में नहीं है?

मुंबई। आरबीआई की प्रॉम्प्ट करेक्टिव ऐक्शन लिस्ट में डाले गए पब्लिक सेक्टर बैंक धड़ाधड़ अपने एटीएम बंद कर रहे हैं। लागत कम करने के लिए इंडियन ओवरसीज, देना बैंक सहित कुछ अन्य बैंक भी अपने एटीएम बंद कर रहे हैं। इनका कहना है कि एटीएम की कॉस्ट काफी हद तक बेलेंसशीट को प्रभावित करती है। दूसरी ओर एटीएम बंद करने वाली बैंकों के कारण अन्य बैंकों को ज्यादा कैश विदड्रॉल पॉइंट्स मुहैया कराकर मार्केट शेयर बढ़ाने में मदद मिल रही है।
11 पब्लिक सेक्टर बैंक जो पीसीए लिस्ट में आए हैं, उनमें से सात ने अपने एटीएम की संख्या में खासी कमी की है। रिजर्व बैंक की रिपोर्ट के अनुसार, सेंट्रल बैंक, इलाहाबाद बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, कॉरपोरेशन बैंक और यूको बैंक इस सूची में शामिल हैं।

एटीएम की संख्या में सबसे ज्यादा कटौती सितंबर 2015 में पीसीए में आए इंडियन ओवरसीज बैंक ने की है। बैंक ने अपने 15त्न एटीएम बंद कर दिए हैं जिससे उनकी संख्या अप्रैल 2017 के 3500 से घटकर इस साल अप्रैल में 3,000 रह गया। इस क्रम में ष्टह्र बैंक और केनरा बैंक दूसरे और तीसरे नंबर पर हैं जिन्होंने अपने 7.6त्न ्रञ्जरू बंद कर दिए हैं।

फिर भी बढ़ी नगद निकासी
भले ही सरकारी बैंकों द्वारा एटीएम बंद किए जा रहे हैं, लेकिन खास बात ये है कि सरकारी बैंकों के इतने एटीएम बंद होने के बावजूद नगद निकासी 2018 में पिछले साल के मुकाबले 22त्न ज्यादा रही।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com