Breaking News

आतंकी समुद्री रास्ते से कर सकते हैं हमला, बोले- नौसेना प्रमुख

Posted on: 05 Mar 2019 14:13 by mangleshwar singh
आतंकी समुद्री रास्ते से कर सकते हैं हमला, बोले- नौसेना प्रमुख

नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा मंगलवार को हिन्द-प्रशांत क्षेत्रीय संवाद में रक्षा क्षेत्र से जुड़े वैश्विक विशेषज्ञों और राजनयिकों को संबोधित किया । उन्होंने कहा कि हाल के वर्षों में क्षेत्र ने कई तरह का आतंकवाद देखा है और विश्व के कुछ ही देश इसकी जद में आने से बच पाए हैं। बिना नाम लिए उन्होंने कहा कि ‘एक देश’ के सहायता से आतंकियों ने ऐसे हमले को अंजाम दिया था। लांबा ने कहा हमारे पास ऐसी खुफिया जानकारी है कि आतंकवादियों को समुद्री मार्ग सहित विभिन्न तरीकों से हमलों को अंजाम देने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

पुलवामा हमला: पाकिस्तान को सबूत नहीं देगा भारत, करेगा बेनकाब

नौसेना प्रमुख ने कहा कि आतंकवाद ने हाल में जो वैश्विक रुख अपनाया है, उससे यह खतरा और बढ़ गया है। ‘‘हाल में लगभग तीन सप्ताह पहले जम्मू कश्मीर में आत्मघाती हमला हुआ था। जिसके बाद भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ‘मिराज 2000’ की ओर से बीते दिनों पाकिस्तान के बालाकोट में बम गिराकर जैश ए मोहम्मद के सबसे बड़े ट्रेनिंग कैंप सहित कई ठिकानों को तबाह कर दिया।

आतंकी संगठन बड़ा हमला करने की फ़िराक में

जिसके बाद पाकिस्तान में हडकंप मच गया है। इस हमले में जैश ए मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर का साला युसूफ अजहर और मसूद के भाई मौलाना अम्मार व मौलाना ताल्हा सैफ मारा गया, इस हमले की बाद बौखलाए आतंकी संगठन बड़ा हमला करने की फ़िराक में है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने आतंकियों के लिए करो या मरो का फरमान जारी कर दिया है। वहीं भारतीय खुफिया एजेंसी से मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली समेत अनेक शहर आतंकियों के निशाने पर है ।

दुनियाभर में चौतरफा घिरा पाकिस्तान

पुलवामा आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान अब चौतरफा घिरता जा रहा है। अब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने भी पुलवामा हमले पर नाराजगी जताते हुए निंदा की। संयुक्त राष्ट्र की 15 शक्तिशाली देशों की इस इकाई ने अपने बयान में पाकिस्तान के आतंकी समूह जैश-ए-मोहम्मद का नाम लेकर आतंकी गतिविधियों को रोकने की बात की। यूएनएससी की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि 14 फरवरी को पुलवामा में हुए जघन्य और कायरान तरीके से हुए आत्मघाती हमले की कड़ी निंदा करते हैं। यूएनएससी ने आतंकवाद को अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए गंभीर खतरों में से एक बताया है।

Read More:- बोले पीएम मोदी, मैं देश नहीं झुकने दूंगा

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com