Breaking News

टेलीकॉम डिपार्टमेंट को एयरसेल से 6000 करोड़ की वसूली पर संशय

Posted on: 25 Jun 2018 12:42 by Praveen Rathore
टेलीकॉम डिपार्टमेंट को एयरसेल से 6000 करोड़ की वसूली पर संशय

नई दिल्ली। निजी टेलीकॉम कंपनी एयरसेल दिवालिया हो चुकी है और उसे सरकार को न सिर्फ करोंड़ों रुपए बल्कि अन्य देनदारियां भी करोड़ों रुपए चुकानी है। टेलीकॉम डिपार्टमेंट कर्ज और ब्याज समेत 6,000 करोड़ रुपये की रिकवरी कर पाने में टेलीकॉम डिपार्टमेंट को संशय है कि ये वसूली हो पाएगी। एयरसेल अपनी कुछ संपत्ति बेचने के प्रयास कर रही है।  टेलीकॉम डिपार्टमेंट के सूत्रों का कहना है कि क्लेम का स्टेटमेंट अंतरिम रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल (आईआरपी) के पास जमा करा दिया है, लेकिन प्रक्रिया पूरी होने में कम से कम 2-3 साल का समय लगेगा। इस दौरान तय होगा कि कंपनी कितनी रकम का भुगतान कर पाएगी और वह यह पैसा किन लोगों को चुकाएगी।

सरकार को एयरसेल से 6,666 करोड़ रुपये की रिकवरी करनी है। इसमें से 722 करोड़ रुपये वनटाइम स्पेक्ट्रम चार्ज (ओटीएससी) के रूप में हैं, जो बैंक गारंटी से कवर्ड हैं। बाकी की रकम स्पेक्ट्रम यूसेज चार्ज, लाइसेंस फीस, इंटरेस्ट और पेनाल्टी के रूप में है, जिसके लिए टेलिकॉम डिपार्टमेंट को बैंक गारंटी नहीं मिली हुई है। ओटीएससी के तहत बकाया रकम को कंपनी ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है, जिस पर अभी फैसला आना बाकी है। अधिकारी ने बताया, कंपनी का टर्नअराउंड मुश्किल लग रहा है। बकाया रकम हमारी और बैंकों की बुक में जाएगी।

एयरसेल को अभी डेलॉयट के आईआरपी विजयकुमार अय्यर चला रहे हैं। वह कंपनी की कुछ संपत्ति को बेचने की कोशिश कर रहे हैं। एयरसेल को कर्ज देने वाले बैंकों की समिति (सीओसी) की पिछली मीटिंग में कंपनी और उसकी दो यूनिट्स- डिशनेट वायरलेस और एयरसेल सेल्युलर को लेकर आईआरपी ने वॉर्निंग दी थी कि अगर कंपनी को अपने इंफ्रास्ट्रक्चर को मेंटेन करने और एंप्लॉयीज को सैलरी देने के लिए तुरंत 200 करोड़ रुपये की जरूरत है। उन्होंने कहा था कि संपत्तियों को बेचकर कर्ज की रिकवरी करने के लिए इनका अच्छी हालत में होना जरूरी है।

आईआरपी ने बताया था कि कुछ पार्टियों ने एयरसेल की कुछ असेट्स के लिए बोली लगाई है, लेकिन जब तक यह प्रक्रिया पूरी होगी, तब तक मेंटेनेंस की कमी के चलते इनकी वैल्यू कम हो जाएगी। आईआरपी ने इस आधार पर कंपनी में तुरंत कैश लगाने की अपील की थी। माना जा रहा है कि सबसे पहले एयरसेल के एंटरप्राइज बिजनेस को बेचा जा सकता है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com