Breaking News

मंदसौर से सुवासरा कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग का AICC की सदस्यता से इस्तीफा

Posted on: 23 May 2018 14:03 by Praveen Rathore
मंदसौर से सुवासरा कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग का AICC की सदस्यता से इस्तीफा

इंदौर. मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा प्रदेश कांग्रेस की समन्वय समिति में कांग्रेस से निष्कासित रहे पूर्व जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेंद्र सिंह गौतम को सदस्य बनाये जाने को लेकर पार्टी में घमासान चल रहा है. मंदसौर के जिला उपाध्यक्ष महेंद्र गुर्जर के बाद सुवासरा कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग के  AICC की सदस्यता से इस्तीफा देने की खबर आ रही है. बता दें कि इस्तीफे देने वाले ये नेता राहुल  गांधी की करीबी मीनाक्षी नटराजन के समर्थक है. नटराजन के समर्थकों ने नीमच, मंदसौर और रतलाम में इस्तीफे दे दिए हैं. मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पर  गलत निर्णय लेने के आरोप लग रहे हैं

इस मामले में सबसे पहले जिला कांग्रेस मंदसौर के उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा देने वाले नटराजन के खास महेंद्र गुर्जर ने कहा कि राजेंद्र सिंह गौतम 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की अधिकृत प्रत्याशी मीनाक्षी नटराजन के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़े थे, जिस पर उन्हें 6 साल के लिए निष्काषित किया गया था, अभी उनकी निष्कासन अवधि पूरी नहीं हुई और उन्हें समन्वय समिति का मेंबर बना दिया.
इसके अलावा नीमच में नटराजन समर्थक जिला कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष प्रभुचंदेल, तरुण बाहेती सचिव, मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस, दिनेश बैरागी ब्लाक कांग्रेस महामंत्री जावद, संजय तिवारी ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष सिंगोली, सत्यनारायण पाटीदार पूर्व जनपद अध्यक्ष जावद, रमेश राजोरा जिला संयोजक राजीव गांधी पंचायती राज संगठन नीमच ने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया है. इसके साथ ही रतलाम में नटराजन समर्थक पीपीपी सचिव युसूफ कडपा ने भी पद से इस्तीफा सौंप दिया है.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की कोर टीम की सदस्य पूर्व सासंद मीनाक्षी नटराजन की नराजगी के चलते उनके समर्थक विधायक हरदीप सिंह डंग ने दिया इस्तीफा।

एक वक्तव्य में सभी ने राहुल गांधी , कमलनाथ और सिंधिया का आभारऔर धन्यवाद ज्ञापित किया है जिसमें कहा गया है कि गौतम के होने से पूरे संसदीय क्षेत्र ( मन्दसौर – नीमच – जावरा ) में कांग्रेस संगठन को बल मिलेगा और कांग्रेसी पूरी शक्ति से मुकाबला कर सकेगी।

पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन और गौतम की पुरानी अदावत रही , जब गौतम उनके सामने ही चुनाव में खड़े हुए थे।अब – जब गौतम का नाम सीधे प्रदेश समन्वय समिति में आगया है , अर्थात उन्हें वरदहस्त प्राप्त है , चूंकि वे जिला कांग्रेस के हिसाब से निष्कासित रहे हैं , अधिकृत वापसी वर्तमान जिला कांग्रेस नहीं मान रही है।

ऐसे में राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल जी के नजदीकी मीनाक्षी के लिए तो चेलेंज वाली स्थिति उत्पन्न होगई है। आला कमान क्या समाधान निकाल रहा है , बहुत महत्वपूर्ण हो गया है। जिले में 1 से 10 जून तक किसानों का बन्द प्रस्तावित है तथा मल्हारगढ़ क्षेत्र में राहुलजी की रैली तय होचुकी है । गत वर्ष की 6 जून को किसानों की गोलियों से मृत्यु हुई उसकी बरसी मना कर कांग्रेस वातावरण पक्ष में करने की जुगत में थी कि यह बड़ा घटनाक्रम हो गया।

पूर्व सांसद बालकवि बैरागी के निधन पर शोक व्यक्त करने आये दिग्विजयसिंह , कमलनाथ सुरेश पचौरी भारतसिंह महेंद्र जोशी , उदयलाल आंजना आदि नब्ज टटोल भी गए, दिग्विजयसिंह ने तो मीडिया की उपस्थिति में पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से स्पष्ट कहा कि एकजुट होने के साथ मीनाक्षी नटराजन को मजबूती देना है।
यह नई करवट नई मुश्किलें बढ़ा रही है पूरे संसदीय क्षेत्र में कांग्रेस की ।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com