Breaking News

स्तुति ने रचा इतिहास, एक साथ क्रैक की मेडिकल की सभी एंट्रेंस एग्जाम

Posted on: 20 Jun 2019 16:04 by Ayushi Jain
स्तुति ने रचा इतिहास, एक साथ क्रैक की मेडिकल की सभी एंट्रेंस एग्जाम

गुजरात : अक्सर देखा गया है कि बच्चे एक एग्जाम के लिए मेहनत करते है लेकिन आज ऐसी कहानी सामने आई जिससे देख नकार लोग दंग रह गए है। जी हा हम बात कर रहे है स्तुति खंडवाला ने अपनी उपलब्धि से ना सिर्फ अपने माता-पिता का नाम रौशन किया बल्कि अपनी प्रतिभा के दम पर एक इतिहास भी रच दिया है। एक साथ मेडिकल के सारे एग्जाम क्लियर कर लोगो का दिल जीत लिया है।

हर साल बच्चे इंजीनियरिंग और मेडिकल की एंट्रेंस एग्जाम की परीक्षा देते है। ऐसे में किसी एक एग्जाम को क्लियर करना बच्चों के लिए एक उपलब्धि से कम नहीं होता है लेकिन एक साथ कई परीक्षा को पास करना एक इतिहास रचने के बार बार है ऐसा ही कुछ एक छात्रा द्वारा सारी एग्जाम क्लियर कर इतिहास रच दिया है जी हा स्तुति खंडवाला ने एक ही साथ जेईई मेन 2019, एम्स, एमबीबीएस जैसी कई परीक्षाओं को पास किया है।

गुजरात के सूरत की रहने वाली स्तुति ने जेईई मेन ( JEE Main), एनईईटी (NEET), आईपीएमईआर (JIPMER) और एम्स एमबीबीएस (AIIMS MBBS) टेस्ट समेत कई एंट्रेंस परीक्षाओं को एक ही बार में क्लियर कर दिखाया है। इन सब के बावजूद भी उन्होंने देश के किसी टॉप कॉलेज में एडमिशन लेने के बजाय अमेरिका के इंजनीयरिंग कॉलेज मेसाचुसेट्स प्रौद्योगिकी संस्थान (एमआईटी) में एडमिशन लेने का फैसला किया है।

स्तुति खंडवाला एलन करियर इंस्टीट्यूट कोटा की स्टूडेंट हैं। बता दें कि उन्होंने बोर्ड एग्जाम में साइंस स्ट्रीम से 98.8 प्रतिशत से राजस्थान बोर्ड में टॉप किया है। स्तुति खंडवाला ने एम्स एमबीबीएस के ऑल इंडिया रैंक में 10वां स्थान हासिल किया है। इसके साथ ही उन्होंने आईपीएमईआर की परीक्षा में 1086वां स्थान हासिल किया जबकि नीट 2019 में उन्हें ऑल इंडिया रैंक में 71वां स्थान प्राप्त हुआ है।

बात करें उनके माता-पिता की तो दोनों ही डॉक्टर हैं। उनकी मां हेतल एक डेंटिस्ट हैं, प्रैक्टिस के साथ वो कोटा में अपनी बेटी के साथ रहती हैं। जबकि पिता शीतल खंडेवाला एक पैथोलॉजिस्ट हैं और वो अपनी बेटी से मिलने के लिए हर सप्ताह आते हैं। स्तुति खंडवाला एमआईटी से रिसर्च की पढ़ाई करेगी। इन्होने अपनी सफलता का सारा श्रेय अपने पेरेंट्स और टीचर्स को दिया है। कोचिंग के अलावा स्तुति रोजाना 12 से 13 घंटे सेल्फ स्टडी करती थी। वो फिजिक्स, केमिस्ट्री मैथमेटिक्स और बायोलॉजी जैसे सभी सब्जेक्ट को बराबर टाइम देकर पढ़ाई करती थी। स्तुति को प्रसिद्ध मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) से 90 प्रतिशत छात्रवृत्ति के साथ एक प्रवेश पत्र मिला है। वह बायो-इंजीनियरिंग में रिसर्च करना चाहती है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com